Back arrow
Search Icon

स्तम्भ

स्तम्भ

हिंदी व भारतीय भाषाओं बिन अधूरा है भारत

यह हमारा दुर्भाग्य है कि हम राष्ट्र और संस्कृति शब्द पर तो बहुत बल देते हैं लेकिन राष्ट्र की एकता और संस्कृति की वाहिनी…

ख़बरों में

इस ‘ब्लू ह्वेळ’ को हमने ही पैदा किया है

घर में एक बुजुर्ग बाबा थे, जिनकी उम्र उस बूढ़े बरगद के बराबर हो चली थी. वह बरगद जो गाँव के पश्चिम अभी भी…

स्तम्भ

मर्डर पॉलिटिक्स: क्या राजनैतिक विरोध में अंधे हो गए हैं हम?

गाँव के पश्चिम एक दीना पांड़े रहते थे! कहते हैं दीना पांड़े का एक पैर खेत में रहता था तो एक पैर कचहरी में,…

स्तम्भ

डिमांड और सप्लाई बनाम भीड़ का मनोविज्ञान

दो साल पहले की बात है, तब कार्यक्रम के सिलसिले में भदोही जाना हुआ था. संयोग से एक कलाकार मित्र के घर भी जाना…

स्तम्भ

तीन तलाकः अवसर चुनौती स्वीकारने का

तीन तलाक पर उच्चतम न्यायालय के फैसले का आमतौर पर स्वागत किया जा रहा है, लेकिन मुस्लिम समाज का एक वर्ग ऐसा भी है…

ख़बरों में

इस आदमी को जरा आदमी बनाया जाए…

उत्तर प्रदेश का पूर्वांचल, आखिरी छोर पर बसा वो बलिया जिला, जिसको इतिहास की किताबों ने बड़ी इज्जत के साथ बागी का सर्टिफिकेट दिया…

स्तम्भ

तूफान को रखना मेरे बच्चों संभाल कर!

आजादी क्या है? यह अहसास है, अफसाना है या असलियत? यह कब आती है, कब जाती है? आती है तो सबसे मिलती क्यों नहीं?…

स्तम्भ

बाजार के मोहताज बनते प्रेम के त्यौहार

सावन-भादो का महीना बारिश का महीना है. बारिश बनारस में होती है तो बलिया में नहीं होती, बलिया के एक कोने में होती है…

वायरल

आखिर काला रंग क्यों होता है ‘अशुभ / नकारात्मक’ ?

उसने पूछा कि काला रंग अशुभ क्यों होता है? आखिर किसी शुभ अवसर पर काले रंग के कपड़े क्यों नहीं पहने जाते? प्रश्न पेचिदा…

ख़बरों में

राष्ट्रपति चुनाव: केवल प्रतीक नहीं, पहचान और प्राणवंतता भी

हम शीघ्र ही अपनी स्वतंत्रता के 70 वर्ष पूर्ण कर रहे हैं. सारे देश में एक समान कर प्रणाली लागू हो रही है, तो…

व्यंग्य

व्यंग्य: मर्द के ‘दर्द’ नहीं होता, या…

“मर्द के दर्द नहीं होता” ये कोई बात हुई भला, मर्दों के खिलाफ कोरी साजिश है, साजिश! इन फिल्म वालो पर तो केस कर…

व्यंग्य

क्या हम अपनी मरी हुई संवेदना का वीडियो बना रहे हैं..?

बीते दिन बनारस में मेरे सामने एक घटना हुई. यूँ तो बनारस में घटना हो जाना या किसी फिल्म की शूटिंग हो जाना या…