अपंगता एक ऐसी कमी है जिसे किसी भी प्रयास से पूरा नहीं किया जा सकता!

इंसान को इसी के साथ अपना पूरा जीवन बसर करना पड़ता है. अक्सर कुछ लोग अपनी इसी अपंगता के कारण सामान्य लोगों की भांति अपने जीवन में सफल नहीं हो पाते.

हालांकि कुछ ऐसे भी लोग भी होते हैं जो अपनी अपंगता को ही अपना हुनर बनाकर सफलता के शिखर को छू लेते हैं. कुछ इसी तरह के हुनर का मालिक था ‘ग्रैडी स्टिल्स’ जो ‘लॉबस्टर बॉय’ के नाम से भी जाना जाता था.

ग्रैडी ने अपनी अपंगता को अपना हुनर बनाया और अपने जीवन में अच्छी खासी सफलता भी हासिल की. वह एक उम्दा कलाकार बना और लोगों के दिलों में अपनी छाप छोड़ी… मगर वक़्त के साथ वह हत्यारा बन गया!

आखिर कैसे हुआ यह सब चलिए जानते हैं–

इस वजह से ग्रैडी था ‘लॉबस्टर बॉय’

साल 1937  में अमेरिका के शहर पिट्सबर्ग के क्षेत्र पेन्सिलवेनिया में जन्मा ग्रैडी अपने परिवार की पुश्तैनी बीमारी के साथ पैदा हुआ था. ग्रैडी की बीमारी को ‘सहज अंगुल्यभाव’ कहते हैं. इस बीमारी में रोगी के हाथ की बीच उंगलियां नहीं होती और उसके हाथ किसी लॉबस्टर के पंजों के समान लगते हैं. ग्रैडी के परिवार के अन्य लोग भी उसी के समान थे. उनके हाथ भी लॉबस्टर की तरह ही थे. इसकी वजह से ही उसे अपने घर पर कभी भी ऐसा महसूस नहीं हुआ कि वह बाकियों से अलग है.

स्टिल्स परिवार लगभग एक शताब्दी से इस बीमारी से जूझ रहा था.

उन्होंने अपनी अपंगता को अपने हुनर में तब्दील कर लिया था. वह एक सर्कस चलाते थे, जहां वह अपनी कमी को हुनर की तरह इस्तेमाल कर लोगों का मनोरंजन करते थे. इस तरह उन्होंने अच्छी खासी पूंजी बना ली थी. मतलब साफ था कि ग्रैडी को अपने परिवार की इस विरासत को आगे बढ़ाना था. अपने पैरों की अपंगता के चलते ग्रैडी चल नहीं पाता था. यहां से वहां जाने के लिए वह अपने शरीर को अपने पंजे नूमा हाथों से घसीटता था. इस वजह से उसके कंधों और हाथों में गजब की ताकत आ गई थी.

सर्कस के माहौल में बड़ा हुआ ग्रैडी भी अपने परिवार की ही तरह लोगों का मनोरंजन कर उनमें खुशियाँ बांटने की चाह रखता था. इसके चलते ही उसने 19 साल की उम्र में अपना फैमिली बिजनेस ज्वाइन कर लिया. इसी बीच ग्रैडी को अपनी सर्कस में ही काम करने वाली किशोरी मारिया टेरेसा से प्यार हो गया. दोनों का प्यार परवान चढ़ा और उन्होंने शादी कर ली. मैरी से ग्रैडी को दो बच्चे हुए जो कि पिता की ही बीमारी के शिकार थे.

Lobster Boy (Pic: modernnotion)

पत्नी का कत्ल करने वाला था, पर…

शादी के बाद ग्रैडी ने खूब मेहनत की और अपनी सर्कस को एक अच्छे मुकाम पर लेकर गया. जल्द ही शोहरत ग्रैडी के कदम चूमने लगी और वही शायद उसकी बर्बादी का कारण भी रही. अपनी इस कामयाबी की धून में ग्रैडी ने शराब पीनी शुरु कर दी. वह अक्सर शराब के नशे में अपनी पत्नी और बच्चों को मारता था. 1973 की ऐसी ही एक रात जब ग्रैडी शराब के नशे में चूर था तो उसने एक बार फिर से अपनी पत्नी के साथ झगड़ा शुरु कर दिया.

इस बार हालात गंभीर हो गए, ग्रैडी ने मैरी को झटके से जमीन पर गिरा दिया और अपने हाथों से उसके गर्भनिरोधक उपकरण को खींच कर बाहर निकालना चाहा. इस खिंचातानी में गर्भनिरोधक उपकरण अन्दर ही टूट गया. जिसके चलते मैरी बुरी तरह से घायल हो गई. इस हादसे के बाद मैरी ने ग्रैडी से रिश्ता तोड़ दिया और उससे तालाक ले लिया. मैरी से तालाक के बाद ग्रैडी ने बारबरा नाम की लड़की से शादी की. जिससे उसे एक बच्चा हुआ, लेकिन वह भी लॉपस्टर कलो सिंड्रोम से ग्रस्त था. दूसरी शादी के बाद भी ग्रैडी की शराब की लत नही छूटी और उसकी गालियों और मारपीट से तंग आकर बारबरा ने भी उससे तलाक ले लिया.

Lobster Boy Tried To Kill His Wife But Failed (Representative Pic: timesofindia)

ग्रैडी ने किया बेटी के मंगेतर का कत्ल

ग्रैडी की जिन्दगी उस समय पूरी तरह से बदल गई जब साल 1978 में उसकी बड़ी बेटी डोना को एक लड़के से प्यार हुआ. वह उस लड़के से शादी करना चाहती थी इसलिए उसने ग्रैडी से झूठ कहा कि वह गर्भवती है. बेटी से नाखुश ग्रैडी के शातिर दिमाग में एक घिनौनी साजिश पनप गई. उसने चालाकी से अपनी बेटी के मंगेतर को घर पर बुलाया और अकेले में उससे बात करने के बहाने उसे अलग ले गया.

वहां उसने उस लड़के को गोली मार कर उसकी हत्या कर दी.

हालांकि ग्रैडी इस बात को जानता था कि इस कत्ल के बाद कहीं भाग नही पाएगा इसलिए उसने खुद को पुलिस के हवाले कर दिया. ग्रैडी कानूनी दाव पेच भी जानता था. उसने बड़ी चलाकी से अपनी अपंगता को ढाल बनाकर अदालत से दया की भीख मांगी. उसने कहा कि वह अपने अपाहिजपन के चलते जेल में अधिक समय तक नही जी पाएगा और शराब व सिगरेट के कारण उसे अन्य बिमारियां भी है.

ग्रैडी की दलीलों को सुनने के बाद अदालत ने उसे सिर्फ 15 साल  कैद की सजा सुनाई जिसे पूरी करने के बाद वह वापिस अपने घर लौट आया.

Lobster Boy Killed His Own Son In Law (Representative Pic: thedailybeast)

पत्नी ने ही किया ग्रैडी का क़त्ल

जेल से लौटने के बाद ग्रैडी ने खुद को काफी बदल दिया. उसने शराब और सिगरेट पीना छोड़ दिया. इसी बीच वह फिर से अपनी पहली पत्नी मैरी के संपर्क में आया. उसने मैरी को समझाया की अब वह पूरी तरह से बदल गया है. ग्रैडी की बातें सुन कर मैरी का दिल पिघल गया और वह फिर से ग्रैडी के पास लौट आई.

साल 1989 में दोनों ने एक बार फिर से शादी की और यही शायद मैरी की सबसे बड़ी गलती साबित हुई. वह इस बात से बिल्कुल अंजान थी कि ग्रैडी का प्यार सिर्फ एक छलावा है. कुछ ही समय बाद मैरी के सामने ग्रैडी का असली चेहरा आ गया. अब वह पहले से भी ज्यादा उग्र हो गया था और मैरी को और ज्यादा यातनाएं देने लगा था.

इस सब से परेशान होकर साल 1992 में मैरी ने अपने ही पड़ोस में रहने वाले क्रिस वयांत के साथ मिलकर ग्रैडी की मौत की साजिश रची. जिसके तहत मौका देखकर क्रिस ने ग्रैडी को गोली मारकर उसकी हत्या कर दी. इस कत्ल के एवज में मैरी ने उसे 1500 डालर दिए थे.

हालांकि बाद में पुलिस ने क्रिस और मैरी को इस हत्या के लिए गिरफ्तार कर लिया था. कत्ल के आरोप में क्रिस को 27 साल की सजा हुई जबकि मैरी को साजिश रचने के आरोप में 12 साल की सजा सुनाई गई. बहरहाल इस प्रकार एक उम्दा कलाकार का दुखद अंत हुआ.

Lobster Boy’s Own Wife Planned To Killed Him (Pic: alphacoders)

शराब की आदत ने ग्रैडी की जिंदगी ही बदल दी. जब तक वह शराब नहीं पीता था तब तक वह एक अच्छा परफ़ॉर्मर था, लेकिन शराब के सेवन के बाद वह हैवान बन गया. सिर्फ एक आदत ने ग्रैडी की पूरी जिंदगी ही बदल डाली.

Web Title: How The Famous Lobster Boy Become A Killer, Hindi Article

Feature Image Credit: who-natic