“कोई मायने नहीं रखता कि आप कितनी बार पकड़े गए हैं, बाहर निकलने का एक रास्ता हमेशा होता है इसलिए कभी हार न मानो.” – एल चैपो

अगर आपसे कोई ये बात कहे तो आप कहेंगे कि कहना बहुत आसान होता है कर के दिखाना मुश्किल. वहीं एक शख्स है जिसने ऐसा केवल कहा ही नहीं बल्कि उसे करके भी दिखाया है.

मैक्सिको अपने ड्रग्स और ड्रग माफियाओं के लिए दुनिया भर में कुख्यात है. ऐसे में एक और कुख्यात ड्रग माफिया ने इस धरती पर जन्म लिया…

ये है एल चैपो गुजमन लावेरा!

इसने पॉब्लो एस्कोबार के बाद ड्रग्स की दुनिया पर अपनी धाक जमाई और अमेरिका की नाक में दम कर दिया. अब तक चैपो मैक्सिको की सबसे ज्यादा सुरक्षित जेल से एक नहीं दो बार भाग चुका है.

तो चलिये जानते हैं एल चैपो की जेल से भागने और पकड़े जाने की कहानी–

पहली बार पकड़ा गया, तो…

दुनिया के सबसे खतरनाक अपराधियों में से एक एल चैपो पर यूं तो कई केस दर्ज हैं, लेकिन इसे ड्रग्स तस्करी के मामले में बेहद शातिर दिमाग वाला माना जाता है. साधारण हाइट वाला ये शख्स इतना शातिर दिमाग है कि इसने मैक्सिको से अमेरिका तक सुरंग बनाकर कई बार ड्रग तस्करी की. अपने इन्हीं कारनामों की वजह से एल चैपो को पहली बार ग्वाटेमाला से सन् 1993 में पकड़ा गया था. उस समय एल चैपो को मेक्सिको के कोर्ट ने 20 साल की सजा सुनाई थी. चैपो के सलाखों के पीछे जाने के बाद सरकार ने राहत की सांस ली.

अब तक सरकार को लगा कि एल चैपो की कहानी यहीं खत्म हो गई है, लेकिन सरकार गलत थी. असल में एल चैपो जेल के अंदर से भी अपना गैंग चला रहा था. उसने अंदर बैठकर ही जेल के हर उस शख्स को खरीद लिया जो बिक सकता था और जिसने अपना ईमान नहीं बेचा… उसे चैपो धमका देता था. उनके परिवार को जान से मारने की धमकी देता था.

आंकड़े बताते हैैं कि जब यह पहली बार जेल में था, तब इसने 71 कर्मचारियों को खरीद लिया था जिसका पता चैपो के जेल से भागने के बाद चला.

El Chapo Themed Bio-Series. (Pic: time)

…और जेल से भाग गया!

19 जनवरी, 2001 यही वो तारीख थी जिस दिन चैपो पहली बार जेल से भागा था. एल चैपो की भागने में मदद किसी और ने नहीं बल्कि जेल के ही एक गार्ड ने की थी.

एल चीटो नाम के एक गार्ड ने भागने में चैपो की मुख्य रूप से सहायता की थी. चीटो गंदे कपड़ों से भरी हुई एक ट्राली लेकर चैपो के कमरे के बाहर आया और चुपके से चैपो की सेल का दरवाजा खोल दिया जिससे चैपो उस कपड़े की ट्राॅली में सवार होकर हॉल से होता हआ पार्किंग तक पहुंच गया. यहां उस समय केवल एक गार्ड तैनात था. इसका फायदा उठाकर वो सेवरलेट मौंटे कारलो ट्रक में छलांग लगाकर वहां से फुर्र हो गया.

रात का फायदा उठाकर चैपो जेल से तो बाहर आ गया लेकिन उसे अब शहर से भागना था इसलिए उसने ट्रक से उतरकर आगे का सफर एक गाड़ी से तय किया. उसने एक कार की डिक्की में छुपकर शहर पार किया.

आपको जानकर ताज्जुब होगा कि इस पूरे जेल ब्रेक कांड को अंजाम देने के लिए चैपो ने 2.5 मिलियन डॉलर खर्च कर दिए थे. ये पूरा पैसा जेल के कर्मचारियों को रिश्वत देने के लिए खर्च किया गया था.

इस तरह से चैपो 8 साल की सजा काटने के बाद जेल से बाहर आजादी से खुली हवा में सांस ले सकता था.

अब ‘और’ खतरनाक हो गया चैपो

जेल के बाहर आते ही चैपो पहले से भी ज्यादा ताकतवर और खतरनाक हो गया था.

2003 में मैक्सिको का डॉन और अमेरिका के अनुसार दुनिया का सबसे शक्तिशाली ड्रग माफिया बन चुका था चैपो.

जेल से भागने के 11 साल बाद तक चैपो ऐसे ही आजाद घूमता रहा. फिर 22 फरवरी 2014 को चैपो दोबारा पुलिस के हत्थे चढ़ गया.

वैसे पुलिस से बचने की उसने तमाम कोशिशें की, लेकिन इस बार उसकी सभी कोशिशें फेल हो गयीं. इस बार चैपो को एक सुरंग से पकड़ा गया औऱ कहा तो यह भी जाता है कि चैपो कई दिन तक उसी सुरंग में पकड़े जाने के डर से छिपा हुआ था. हालांकि पुलिस से बचने की उसकी ये कोशिश भी नाकाम रही औऱ पुलिस ने उसे पकड़ लिया.

Reward on El Chapo. (Pic: cartelblog)

दूसरी बार भी जेल से भाग गया?

11 जुलाई 2015 तारीख मेक्सिको के लिए एक एेतिहासिक दिन बनने वाली थी. इस दिन चैपो दोबारा से एक और हाई सिक्योरिटी जेल से भाग निकला था.

इस बार चैपो ने भागने की एक नई तरकीब आजमाई,  उसने जेल से एक सुरंग के सहारे भागने की योजना बनाई और उसमें वह सफल भी रहा.

चैपो को भागने में मदद करने वाली ये सुरंग उसकी सेल के बाथरूम से निकलती थी और लगभग एक मील लंबी थी. ये इतनी बड़ी और बेहतर तरीके से बनी थी कि इसके अंदर से एक बाइक तक जा सकती थी. वहीं इसमें लाइट, हवा की व्यवस्था भी की गई थी. यहां तक कि सुरंग को चैपो के लिए अच्छे से साफ भी किया गया.

यह सुरंग एक मील दूर एक घर में निकलती थी. मजे की बात ये है कि जब चैपो के लोग सुरंग बना रहे थे तब वह गलती से चैपो के बगल वाले कमरे तक पहुंच गए लेकिन फिर जल्द ही उन्होंने अपनी इस गलती को सुधारा औऱ ये सुरंग बना दी.

इस जेल ब्रेक कांड ने फिर से मैक्सिको को पूरी दुनिया के सामने हंसी का पात्र बना दिया था.

सरकार इस बार चैपो से इतना चिढ़ गई थी कि उसने चैपो की जानकारी देने वाले को 3.8 मिलियन डॉलर का ईनाम देने की घोषणा भी कर दी.

El Chapo’s Escape Tunnel. (Pic: cnn)

आखिरी बार पुलिस ने पकड़ा

एक बार फिर चैपो आजाद था.

दूसरी बार उसने मैक्सिको की सरकार को चकमा दे दिया था लेकिन इस बार ज्यादा देर तक वह खुली हवा में सांस नहीं ले पाया.

एक साल बाद ही जनवरी में चैपो को पुलिस ने फिर से पकड़ लिया.

चूंकि ये बार-बार वहां की सरकार को धोखा दे देता था, इसके गुर्गे मैक्सिको में अपनी पैठ बनाए हुए थे इसलिए वहां की कोई भी जेल इतनी मुनासिब नहीं थी कि इस खतरनाक मुजरिम को वहां रखा जा सके. इसलिए इस बार पुलिस ने चैपो को पकड़ते ही सीधा अमेरिका भेज दिया.

ड्रग तस्करी के दौरान चैपो का कई बार मैक्सिको की सेना से आमना सामना हुआ था, इसी बीच 17 अक्टूबर 2015 को वह घायल हो गया.

जेल से भागने के बाद जब उसे पूरे मैक्सिको की पुलिस, सेना लगभग सभी सैन्य बल खोज रहे थे तब भी वह इतना निडर था कि उसने एक अमेरिकी फिल्म स्टार सिन पेन्न को इंटरव्यू भी दे दिया.

चैपो ने इंटरव्यू में कहा था कि उसकी एक इच्छा है कि उसकी जिंदगी पर एक फिल्म बने.

Joaquin “El Chapo” Guzman Escorted by Soldiers. (Pic: businessinsider)

हालाकि आज उसका ये सपना पूरा हो गया है, और उसके ऊपर एक नहीं कई फिल्में बनाई जा चुकी हैं लेकिन वो इन्हें कभी देख नहीं पाएगा.

क्योंकि शायद ही वो अब जेल से बाहर निकलेगा.

वो क्या कहते हैं… बुरे काम का बुरा नतीजा!

आप क्या कहेंगे?

Web Title: Joaquin Guzman ‘El Chapo’: Story of Jailbreak of A Mexican drug lord, Hindi Article

Featured Image Credit: newrepublic