भारत में कई राजा हुए, जो अपने अलग-अलग काम के चलते विख्यात रहे. कुछ अपने सृजनात्मक कार्यों के जाने गए, तो कुछ अपनी क्रूरता और निरंकुश नीतियों के कारण कुख्यात भी रहे.

वहीं कुछ राजा ऐसे भी हुए, जिन्होंने सत्ता पाने के लिए हर हद को पार कर जाना उचित समझा. यहां तक कि अपने परिवार के लोगों तक को मौत के मुंहाने पर लाकर खड़ा कर दिया.

अजातशत्रु एक ऐसा ही शासक हुआ, जिसके बारे में कहा जाता है कि उसने अपने पिता को बंदी बनाकर जेल में डाल दिया था. उसने ऐसा क्यों किया, क्या सिर्फ सत्ता पाने के लिए उसने ऐसा किया या फिर इसके पीछे कुछ और कारण था!

आईये जानने की कोशिश करते हैं–

पिता को कैदी बना सत्ता पर कब्जा

‘अजातशत्रु’ मगध का सम्राट था, जोकि अपने पिता ‘बिंबिसार’ को जेल में डालकर सत्ता पर काबिज हुआ था. उसकी मां का नाम वैदेही था.

बचपन से ही वह कठोर दिल वाला इंसान था. कहते हैं कि बड़े होते ही वह मगध की बागडोर अपने हाथों में लेना चाहता था, किन्तु उसके पिता बिंबसार उसके रास्ते का सबसे बड़ी रुकावट थे.

पहले उसने उन्हें अपने विश्वास में लेने की कोशिश की, पर जब उसे अपनी दाल गलते नहीं दिखी, तो उसने बिंबसार को बंदी बनाने की योजना बना डाली. चूंकि, वह पहले से ही राज्य की सेना को अपने खेमे में कर चुका था, इसलिए उसके लिए यह काम कठिन नहीं था.

जल्दी ही वह अपनी योजना में कामयाब रहा और 491 ई.पू. के आसपास मगध की गद्दी पर जा बैठा.

कोसल नरेश को हराया और…

सत्ता संभालते ही उसने विस्तारवादी नीति को अपनाया और अपने सम्राज्य को बढ़ाना शुरु कर दिया. कहते हैं कि उसके सिर पर जीतने का जूनून इस कदर चढ़ा था कि वह अपने रास्ते में आने वाले किसी भी आदमी को नहीं छोड़ता था.

यहां तक कि उसने कोसल के राजा प्रसेनजित से झुकने के लिए कहा, लेकिन जब वह नहीं माने तो उसके खिलाफ युद्ध की घोषणा कर दी थी. यूं तो प्रसेनजित बहुत वीर योद्धा थे, किन्तु, अपनी रणनीतियों के चलते अजातशत्रु उन्हें मात देने में सफल रहा. यही नहीं उसने प्रसेनजित की बेटी राजकुमारी ‘वजिरा’ से विवाह तक कर लिया.

असल में वह उसकी मदद से काशी जैसे जनपदों पर आसानी से अपना अधिकार चाहता था.

उसकी योजना कामयाब रही और वह एक-एक करके उसने अंग, लिच्छवी, वज्जी, और काशी जैसे जनपदों पर अपना आधिपत्य जमाने में सफल रहा. साथ ही अपनी नीतियों के चलते मगध को शक्तिशाली राष्ट्र बनाने में सफल रहा.

Ajatashatru King of Magadha (Pic: religion)

पुत्र-प्रेम ने किया हृदय परिवर्तन!

राजकुमारी ‘वजिरा’ से अजातशत्रु को एक पुत्र की प्राप्ति हुई. कहते हैं कि एक दिन वह भोजन कर रहा था. उसी दौरान उसके पास उसका बेटा खेल रहा था. बेटे को इस तरह खेलते हुए उसके प्रति अजातशत्रु का प्यार उमड़ा तो उसने उसे गले से लगा लिया और उसे खाने खिलाने की कोशिश करने लगा.

इसी बीच उसके बेटे ने अचानक पेशाब कर दी, जिसकी कुछ बूंदे उसकी प्लेट में गिर गई. वह गुस्से से अपने बेटे को गोदी से उतार सकता था, किन्तु उसने ऐसा न करते हुए खाना जारी रखा. कुछ देर बाद अपने बेटे को देखकर उसे अपने पिता के प्रति प्रेम उमड़ आया.

बस फिर क्या था वह अपने आपको रोक नही सका और अपने पिता को जेल से निकालने चल दिया.

Ajatashatru King of Magadha (Representative Pic: musings…)

पिता की मौत से द्रवित हुआ और…

पिता बिंबिसार की खुदकुशी ने अजातशत्रु को तोड़ दिया. कहते हैं कि वह इसके लिए खुद को जिम्मेदार मानता रहा. इस कारण उसका मन बहुत ज्यादा दुखी था. वह मानसिक शांति के लिए इधर-उधर जाता रहता. इसी दौरान वह जैन धर्म प्रचारक महावीर स्वामी के सानिध्य में आया और उनसे प्रेरित हुआ. उनके दिखाए मार्ग पर चलते हुए धार्मिक कार्यों में लग गया और शांति की तलाश करता रहा.

किन्तु, उसे शांति नहीं मिली. इसी कड़ी में बाद में वह बुद्ध की शरण में गया, जहाँ माना जाता है कि उसे वहीं एक हद तक आत्मिक शांति मिली, तो वह बुद्ध का परम अनुयायी बन गया.

अपने ही बेटे के हाथों मारा गया

कहते हैं कि आप जैसा करते है,  वैसा ही आपको भरना पड़ता है. या फिर यूं कहे कि मगध में अपने पिता को मारने की प्रथा ही चल पड़ी थी. अजातशत्रु ने जिस तरह से सत्ता के लिए अपने पिता बिंबसार को कैद में रखा और बाद में वह उनकी मौत का कारण भी बना. ठीक उसी तरह कालचक्र ने उसे लाकर खड़ा कर दिया.

जिस तरह से उसने पिता को हटाकर सत्ता हासिल की थी, ठीक उसी तरह उसके पुत्र ‘उदयभद्र‘ ने किया. साथ ही 461 ई.पू. में अपने पिता को मारकर करीब 16 साल तक मगध पर राज किया.

Ajatashatru King of Magadha (Pic: wikipedia)

गजब की बात यह थी कि अजातशत्रु को अपने पिता को कैद करने के लिए हमेशा आलोचनाओं का सामना करना पड़ा. बावजूद इसके उसने अपने पिता के समान ही अपने साम्राज्य का विस्तार कुछ इस तरह किया कि उसे एक अच्छे शासक की ख्याति भी मिली. यही कारण रहा कि वह करीब 32 वर्षों तक मगध की सत्ता पर काबिज रहा.

आप क्या जानते हैं इस अजातशत्रु के बारे में?

Web Title:  Ajatashatru King of Magadha, Hindi Article

Representative Featured Image credit: pinterest