सिकंदर इतिहास में दर्ज एक ऐसा नाम है, जिसके बारे में कहा जाता है कि वह इतना ताकतवर और तीक्ष्ण था कि उसे हराना आसान नहीं था. यहां तक कि उसने भारत समेत दुनिया के एक बड़े हिस्से पर राज किया, किन्तु क्या आप जानते हैं कि उसके जीवन में भी कई ऐसे मौके आए, जब उसके सामने भी घुटने तक टेकने की नौबत आ गई थी!

बैटल ऑफ हाइडस्पेश‘ एक ऐसा ही युद्ध था, जोकि भारत की ज़मीं पर लड़ा गया. भारत की ज़मीं पर यह सिंकदर द्वारा लड़ा गया आखिरी युद्ध भी था. इसके बात वह भारत से वापस चला गया था, तो आईए जानने की कोशिश करते हैं कि आखिर इस युद्ध में क्या हुआ था कि सिकंदर को भारत छोड़कर जाना पड़ा था–

भाइयों की हत्या कर बना था ‘राजा’

सिकंदर एक यवनी अर्थात यूनानी राजा था. उसने अपने पिता फिलिप-II की मृत्यु के बाद अपने सौतेले व चचेरे भाइयों की हत्या कर डाली और यूनान के मेसेडोनिया के सिंहासन को हथियाने में कामयाब रहा. इस तरह वह यूनान का राजा बन बैठा.

सिकंदर बहुत ही महत्वाकांक्षी था. वह पूरे विश्व पर अपना अधिकार चाहता था, इसलिए वह पूरी दुनिया को जीतने के लिए निकल पड़ा. चूंकि, वह ईरानियों का कट्टर दुश्मन था, इसलिए उसने राजा बनते ही उन के ऊपर हमला कर दिया. ईरान के पारसी राजा दारा ने उसका सामना करने की कोशिश की, किन्तु वह ज्यादा देर तक सिकंदर के सामने खड़ा नहीं हो सका और हार गया.

सिकंदर की इस जीत ने उसे ख्याति दिलाई. सिलसिला आगे बढ़ा तो वह एक के बाद एक राज्यों को जीतता चला गया. कईयों ने तो उसके सामने बिना लड़े ही हथियार डाल दिए.

Alexander (Representative Pic: themystique)

पोरस ने ठुकराया प्रस्ताव तो…

अपने विजय अभियान को बढ़ाते हुए 326-27 ई.पू. के आसपास भारत पर आक्रमण कर दिया. यह वह दौर था जह पश्चिमोत्तर भारत कई छोटे-छोटे राज्यों बटा हुआ था. इसमें कुछ राज्य राजतंत्रात्मक थे तो कुछ गणराज्य.

कहते हैं कि भारत में सबसे पहले सिकंदर का सामना तक्षशिला के शासक अम्भी से हुआ.

अम्भी ने सिकंदर को चुनौती देने से अच्छा उसके सामने घुटने टेंकने ज्यादा अच्छा समझा और जल्द ही आत्मसमर्पण कर दिया. असल में वह सिकंदर की मदद से अपने प्रतिद्वंदी राजा पोरस को हराना चाहता था, इसलिए सिंकदर के साथ उसने दोस्ती कर ली थी.

अगली कड़ी में अम्भी से मिली जानकारी के हिसाब से सिकंदर ने राजा पोरस को घुटने टेकते हुए, हथियार डालने का संदेश भेजा, जिसे पोरस ने ठुकरा दिया.

… और सिकंदर की सेना ने कर दी थी ‘चढ़ाई’

सिकंदर ने इसे अपने अपमान की तरह लिया और अपनी सेना को पोरस के राज्य की ओर कूच करने का आदेश दे दिया. सही मायने में बस यहीं से ‘बैटल ऑफ हाइडस्पेश’ की जंग शुरू हो गई थी. सिकंदर की सेना सिंधू नदी को पार करते हुए पोरस के अधिकार क्षेत्र में पहुंची.

जहां, सिकंदर की सेना में 50 हजार से भी अधिक सैनिक थे, वहीं दूसरी तरफ पोरस के सैनिकों की संख्या 20 हजार के आस-पास थी. बावजूद इसके पोरस ने सिकंदर की सेना का जमकर सामना किया. उसने सिकंदर की सेना के सामने अपनी गजसेना को खड़ा कर दिया, जिसे देखकर सिकंदर के सैनिक दंग रह गए.

पोरस की सेना ने यूनानियों पर बड़े ही भयंकर तरीके से आक्रमण किया. उनका ये रौद्र रूप देखकर सिकंदर और उसके सैनिक भयभीत हो गए थे! युद्ध के पहले दिन ही सिकंदर की सेना को जमकर टक्कर मिली और उसके अनगिनत सैनिक मारे गए. पोरस की ये गजसेना इस युद्ध में बहुत काम आई. इसके हाथियों के पैरों तले कुचलकर बहुत सारे यूनानी सैनिक मारे गए थे.

Alexander during War (Representative Pic: Pinterest)

वापस खींचने पड़े थे सिकंदर को कदम!

बावजूद इसके सिकंदर ने अपनी हठ नहीं छोड़ी और युद्ध करने पर अड़ा रहा. जब वह खुद युद्ध के मैदान में उतरा तो पोरस की गजसेना के चक्रव्यूह में फंस गया. ऊपर से राजा पोरस के भाई अमर ने सिकंदर के घोड़े बुकिफाइलस को मार डाला और उसको जमीन पर गिरा दिया.

पोरस सिकंदर का सिर कलम कर सकते थे, किन्तु अपनी परंपरा के अनुसार उन्होंने निहत्थे सिकंदर पर हमला नहीं किया. इसी बीच उसके सैनिक उसे उठाकर भाग गए.

कहा जाता है कि सिकंदर का ऐसा हाल उसके सैनिकों ने कभी नहीं देखा था. इस हादसे ने उसकी सेना का मनोबल तोड़ दिया और उन्होंने लड़ने से इंकार कर दिया.

सेना में पैदा हो रही विद्रोह की स्थिति देख सिकंदर ने अपने सैनिकों को वापस जाने के लिए कह दिया. सिकंदर की सेना लौट ही रही थी कि पोरस की सेना ने सिंधू नदी के एक द्वीप पर उन्हें घेर लिया और कई सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया.

वहीं पोरस ने सिकंदर को घेर लिया था और कड़े युद्ध के बाद सिकंदर को मात देने में पोरस कामयाब हो गए. अपनी सेना को खत्म होते देख और खुद को मौत के मुंह में देखकर सिकंदर ने पोरस के सामने घुटने टेक दिए. साथ ही उसने युद्ध को समाप्त करने की विनती की.

पोरस ने भी युद्ध-नीति का निर्वाह करते हुए शत्रु को मारा नहीं और उसे जीवनदान देते हुए बंदी बना लिया. इसके बाद सिकंदर ने पोरस के साथ संधि कर ली.

इसके बाद सिकंदर ने पोरस को अन्य राज्यों को जीतने में उसका साथ दिया. बैटल ऑफ हाइडस्पेश के इस अंत से भारतीय और ईरानी इतिहासकार इत्तेफाक रखते हैं.

दूसरे तर्क खड़े करते हैं सवाल?

वहीं यूनानी और पश्चिमी इतिहासकारों का मानना कि सिकंदर के साथ हुए युद्ध में पोरस की हार हुई थी. यहां तक कि सिकंदर ने पोरस को बंदी तक बना लिया था. वह तो बाद में उसका मन बदला तो उसने न सिर्फ पोरस को रिहा किया, बल्कि उनके साथ संधि करते हुए वापस लौट गया.

हालांकि, लौटते समय रास्ते में ईरान के बेबीलोन में उसकी तबियत खराब हो गई, जहां वह काफी बीमार पड़ गया और वहीं उसकी मृत्यु हो गई.

Alexander during Sickness (Representative Pic: Stillunfold)

सिकंदर और पोरस के इस युद्ध पर कई फिल्में भी बन चुकी हैं. बॉलीवुड में ब्रिटिश शासनकाल में निर्माता निर्देशक सोहराब मोदी ने एक फिल्म बनाई थी, जिसका नाम ‘सिकंदर’ था. इस फिल्म में सिकंदर का रोल पृथ्वीराज कपूर ने निभाया था, जबकि सोहराब खुद पोरस के रोल में नज़र आए थे. आगे भी सिकंदर को लेकर कई फिल्में और टीवी सीरियल बनते रहे.

इस विशिष्ट प्रस्तुति पर अपनी राय अवश्य दीजिये!

Web Title: Great Hindu King Porus, Hindi Article

Featured Image Credit: jackgamingandlife