जो वर्तमान है, वो भविष्य में इतिहास बनेगा.

दीवारों पर टंगे कैलेंडर की हर तारीख़ की अपनी विशेषता होती है. दिनभर के 24 घंटो में हर देश में कुछ ऐसा घटित होता है कि आने वाली पीढ़ियां उसे इतिहास के रूप में याद रखती हैं.

इसी कड़ी में आज हम 16 मार्च को घटित इतिहास की कुछ ऐसी ही ‘विशेष’ व प्रसिद्ध घटनाओं पर बात करेंगे, जिनकी गूंज सालों बाद भी सुनाई देती है-

हिटलर की जर्मन एयरफोर्स ने ब्रिटेन में मचाई तबाही

अपने तानाशाही के दौर में हिटलर सबसे मज़बूत व्यक्ति था. उसके एक इशारे में जर्मन की तीनों सेनाएं किसी भी देश पर आक्रमण करने काम दम रखती थीं. सत्ता और नाज़ी सेना की ताक़त के नशे में चूर हो चुके हिटलर ने ब्रिटेन पर आक्रमण करने की रणनीति बनाई.

इसी कड़ी में 16 मार्च 1940 को जर्मन एयर फोर्स ने इंग्लैंड के आर्कनी आइलैंड के स्कापा फ्लो पर लड़ाकू हवाई जहाज़ से बम दागने शुरु कर दिए. हिटलर की जर्मन एयर फोर्स की ओर से अचानक बम दागने से ब्रिटेन की रॉयल एयर फोर्स सकते में आ गई.

आर्कनी आइलैंड के आम नागरिक जेम्स इब्बिस्टर 16 मार्च 1940 को जर्मन एयर रेड में मारे जाने वाले पहले ब्रिटेन के नागरिक थे. चारों तरफ से शांत दिख रहे ब्रिटेन में कुछ घंटो में ही हिटलर ने अपनी सेना की मदद से तहलका मचा दिया.

इन सबके पीछे हिटलर का सिर्फ एक ही मकसद था, किसी भी कीमत पर ब्रिटेन पर उसका कब्ज़ा. हालांकि, ब्रिटेन की रॉयल एयरफोर्स ने मोर्चा संभालते हुए जर्मन एयरफोर्स को ब्रिटेन से खदेड़ दिया था.

इस तरह क्रूर तानाशाह हिटलर कुछ समय तक शांत रहा, लेकिन फिर12 अगस्त 1940 को जर्मन वायु सेना ने ब्रिटेन की ‘रॉयल एयर फोर्स’ फाइटर कमान के हवाई क्षेत्र समेत उसके रडार स्टेशनों पर गोले दागने शुरु कर दिए थे. यह युद्ध आज बैटल ऑफ ब्रिटेन के नाम से मशहूर है.

जोकि, दुनिया के सबसे प्रलयकारी हवाई युद्धों में से एक माना जाता है.

Battle of Britain (Pic: simshack)

अमेरिका में दिया गया पहला नेश्नल बुक्स अवॉर्ड

लेखन के क्षेत्र में अमेरिका के सबसे बड़े अवार्ड नेश्नल बुक्स अवार्ड की शुरूआत आज ही के दिन यानी 16 मार्च को हुई थी.

16 मार्च साल 1950 को न्यूयॉर्क सिटी के वाल्डोर्फ-एस्टोरिया होटल में अमेरिकी प्रकाशक, संपादक, लेखक और आलोचक इकठ्ठा हुये थे. उन लोगों का मानना था कि लेखन के क्षेत्र में कई लोग अपना जीवन समर्पित कर देते हैं और अच्छा लेखन पढ़ने वालों को काफी सकारात्मक चीजें करने के लिए प्रेरित करता है.

इसके तहत लेखकों को प्रोत्साहित करने के लिए अवॉर्ड देना चाहिए. यह एक ऐसा अवार्ड था, जो लेखकों द्वारा लेखक को दिया जाता था. अमेरिकन बुक पब्लिशर्स काउंसिल, अमेरिका के बुक मैन्युफैक्चरर्स इंस्टीट्यूट और अमेरिकन बुकसेलर्स एसोसिएशन ने संयुक्त रूप से पहला नेश्नल बुक्स अवार्ड पुरस्कार प्रायोजित किया था.

पहला नेश्नल बुक्स अवार्ड अमेरिका के तीन लेखकों को दिया गया था, जिनमें विलियम कार्लोस, नेल्सन एगरेन और लेखिका एल रस्क शामिल थीं. अमेरिका में आज भी हर साल अंग्रेज़ी लेखन में फिक्शन, नॉन फिक्शन और पोइटरी में यह अवॉर्ड दिया जाता है.

यह अमेरिका में लेखन के क्षेत्र का सबसे प्रतिष्ठित अवॉर्ड माना जाता है.

National Book Foundation And Awards (pic: chireviewofbooks)

वियतनाम में अमेरिकी फौज ने खेली खून की होली

16 मार्च साल 1968 का दिन वियतनाम पर क़हर बनकर टूटा था. वियतनाम के क्वांग नोगाई प्रांत में स्थित छोटे से गांव मायलाइ में तैनात अमेरिकी फौजियों ने निहत्थे और निर्दोष वियतनामी लोगों पर ज़ुल्म ढाते हुये 500 लोगों की दर्दनाक हत्या कर दी थी.

वियतनाम युद्ध के दौरान अमेरिकी फौजियों ने मायलाइ गांव में घुसकर गांव के लोगों को मौत के घाट उतार दिया था. अमेरिकी फौज ने बच्चों और महिलाओं को भी नहीं छोड़ा. यही नहीं अमेरिकी फौज ने लड़कियों और महिलाओं को मारने से पहले उनके साथ रेप की घटना को अंजाम दिया था.

वियतनाम में अमेरिकी फौज की इस करतूत के बाद इंटरनेशनल मीडिया में अमेरिका को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था. वियतनाम देश में निहत्थे गांव के लोगों को दर्दनाक मौत देने वाली अमेरिकी सेना की दुनियाभर में किरकिरी हुई थी. सदियां गुज़रने के बाद भी वियतनाम के लोगों के सीनों में मायलाइ गांव की दर्दनाक घटना की ख़ौफनाक यादें ताज़ा हैं.

vietnam war (Pic: taskandpurpose)

सचिन ने 100 शतक लगाकर रचा था इतिहास

क्रिकेट की दुनिया के सबसे महान खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर और उनके प्रशंसकों के लिए आज का दिन काफी महत्व रखता है.  16 मार्च साल 2012 को इस दिग्गज़ खिलाड़ी ने ढाका के मैदान में बांग्लादेश टीम के खिलाफ 114 रनों की पारी खेलते हुए यह अनूठा रिकॉर्ड बनाया था.

सचिन दुनिया के एकमात्र ऐसे क्रिकेटर हैं, जिन्होंने 100 शतक लगाए हैं. सचिन ने अपने दो सौ टेस्ट मैच में 51 बार शतकीय पारी खेली. उन्होंने अपने 463 वनडे मैचों में 49 शतक ठोके थे. सचिन ने क्रिकेट के दोनों फॉर्मेट मिलाकर 100 शतक लगाने का अनोखा रिकॉर्ड बनाया था.

उनका यह रिकॉर्ड अभी तक बरकरार है. सचिन ने अपना पहला टेस्ट शतक इंग्लैंड क्रिकेट टीम के खिलाफ लगाया था. वहीं कोलंबो सिंगर वर्ल्ड सीरीज़ मैच में ऑस्ट्रेलियाई टीम के खिलाफ मास्टर ब्लास्टर ने अपना पहला एकदिवसीय शतक ठोका था.

16 नवंबर साल 2013 को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में वेस्टइंडीज टीम के खिलाफ अपना 200वां मैच खेलने के बाद सचिन ने टेस्ट मैच से  सन्यास ले लिया था. सचिन भले ही आज मैदान पर नहीं उतरते हों, लेकिन उनके बनाये गए अनोखे रिकॉर्ड आज भी कायम हैं.

Sachin Tendulkar (Pic: biography)

भारतीय पूर्व कप्तान इफ्तिखार अली खान का जन्म

नवाब पटौदी खानदान से ताल्लुक रखने वाले और भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान इफ्तिखार अली खान का आज जन्मदिन 16 मार्च को ही होता है. बहुत ही कम लोगों को पता होगा कि इफ्तिखार अली खान भारत के एकमात्र ऐसे खिलाड़ी हैं, जो इंग्लैंड और भारतीय क्रिकेट टीम का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं.

इससे पहले कोई भारतीय खिलाड़ी दूसरे देश की ओर से नहीं खेला था.

16 मार्च साल 1910 में पटौदी हाउस दिल्ली में जन्म लेने वाले इफ्तिखार अली खान ने इंग्लैंड और भारतीय क्रिकेट टीम की ओर से टेस्ट मैच खेले थे. साल 1936 में इंग्लैंड के टूर पर जाने वाली भारतीय क्रिकेट टीम का उन्हें कप्तान बनाया गया था.

हालांकि, स्वास्थ्य खराब होने का हवाला देकर उन्होंने तब इंग्लैंड टूर पर कप्तानी करने से मना कर दिया था. उसके बाद उन्होंने करीब दस सालों तक भारतीय क्रिकेट टीम की कमान संभाली. 5 जनवरी साल 1952 में इस महान भारतीय कप्तान की हार्ट अटैक से मौत हो गई थी.

Iftikhar Ali Khan Pataudi (Pic: pakpassion)

तो ये थीं कैलेंडर में दर्ज कुछ ऐतिहासिक घटनाएं. अगर आपको भी 16 मार्च से जुड़ी कुछ ऐतिहासिक बातें पता हैं तो कमेंट बॉक्स में हमारे साथ जरूर शेयर करें.

Web Title: Day In History 16th March, Hindi Article

Featured Image Credit: usatoday