आज के आधुनिक फैशन के दौर में ‘सनग्लासेस’ लोगों के जीवन का अहम हिस्सा बन चुके हैं. अगर यह कहा जाये कि बिना सनग्लासेस के फैशन कम्पलीट नहीं, तो शायद यह गलत नहीं होगा!

अब चूंकि, सनग्लासेस हमारे जीवन के लाइफस्टाइल का अहम हिस्सा बन चुके हैं, तो यह जानना जरूरी हो जाता है कि यह बने कैसे, कहां से आए और इनका इतिहास क्या है–

‘हाथी के दांत’ वाले सनग्लासेस!

यूं तो ‘सनग्लासेस’ सबसे पहले कब आये, यह कह पाना थोड़ा मुश्किल है. फिर भी जनधारणाओं की मानें तो सूरज की हानिकारक किरणोंं से आंखों की सुरक्षा के लिए सबसे पहले लोग ‘हाथी के दांत’ से बने सनग्लासेस का प्रयोग करते थे. इन सनग्लासेस का डिजाइन थोड़ा अजीब होता था. इन सनग्लासेस के बीच में एकदम पतला हिस्सा छोड़ा जाता था, ताकि सूरज की रोशनी आंखों तक न पहुंच सके. साथ ही लोग जरूरत के हिसाब से बाहर देख सकें.

बाद में 12वीं सदी के आसपास चीन ने इनको आगे बढ़ाया और अपडेट करते हुए नये सनग्लासेस लेकर आये. इन सनग्लासेस में ‘सपाट शीशे का प्रयोग’ किया गया था, जो सूरज की तेज रोशनी से तो आंखों को बचाते थे, किन्तु सूरज से आने वाली अल्ट्रावायलेट किरणों को रोकने में कमजोर थे.

उस समय मुख्यत: इनका प्रयोग चीन की अदालतों में वहां के जजों द्वारा किया जाता था. वह इन्हें गवाहों से पूछताछ के दौरान पहनते थे, ताकि वह अपने चेहरे के भाव छिपा सकें.

वक्त के साथ-साथ इनमें छोटे-मोटे बदलाव होते रहे, लेकिन असली बदलाव तो 17 वीं सदी के आसपास देखने को मिला. 1752 में जेम्स एसकोफ़ ने सनग्लासेस में रंगे हुए लेंसों का प्रयोग किया. उनका मानना था कि ये कलरफुल लेंस लोगों की आंखों को सूरज की हानिकारक किरणों से बचा सकते हैं.

Erste Sonnenbrille (Pic: sohu)

रंगीन लेंस वाले सनग्लासेस का दौर

19 वीं सदी आते-आते सनग्लासेस आम से होने लगे.  1920 में सैम फोस्टर ने अमेरिकी जनता के लिए सनग्लासेस पेश किया. इस लेंस को सूरज से आंखों की रक्षा के लिए बनाया गया था. इसके बाद तो जैसे चश्मों की बाढ़ सी आ गई.

यह आसानी से बाजार में उपलब्ध थे. खास समुद्री तटों के किनारे यह धड़ल्ले से बिकने लगे. इसके अलावा इस दौर में ये सनग्लासेस पर्वतारोही और पर्यटकों की खास पसंद भी बने. असल में ये रेगिस्तान की चमक से आंखों की सुरक्षा में कारगर थे. यह वहीं समय था जब सनग्लासेस के डिजाइन में सुधार किया गया.

1930 में एडविन एच लैंड ने सनग्लासेस के इस सफर को आगे बढ़ाते हुए अपने पेटेंट वाले पोलरॉइड फ़िल्टर का उपयोग करके सनग्लासेस को एक नया रुप दिया. उनका यह प्रयोग सफल रहा. ‘एडविन’ पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने सनग्लासेस को आधुनिक रूप दिया था.

History Of Sunglasses (Pic: pinterest)

हॉलीवुड में सनग्लासेस का ‘फीवर’

एडविन का  सनग्लासेस आम तो आम खास लोगों का ध्यान भी खींचने में कामयाब रहा. खासकर फिल्मी सितारों ने इसको बढ़-चढ़ कर अपनाया. उस समय के मशहूर हॉलीवुड सितारोंं जैसे ‘बाटे डेविस’ और ‘मार्लीन डीट्रिच’ ने इनको अपना खास हिस्सा बनाया.

कहते हैं कि कई बार ये सितारे आम लोगों के बीच में इन सनग्लासेस का प्रयोग करके अपनी पहचान लोगोंं के बीच में छुपाते थे. ताकि, ऐसा करके वह आम लोगों के साथ उनकी तरह की जिंदगी जीने का लुत्फ़ ले सकें.

देखते ही देखते ये सनग्लासेस हॉलीवुड में ग्लैमर का प्रतीक माने जाने लगे. समय की मांग के अनुसार इनकी बनावट में भी कई संशोधन किये गये थे. अब यह गोल, सपाट आदि ग्लास लेंस फ्रेम के साथ बाजार का हिस्सा थे.

Hollywood Style (Pic: yahoo)

मॉडर्न समय के सनग्लासेस

मॉडर्न जमाने के सनग्लासेस काफी अलग हैं. इस समय आपको सनग्लासेस के एक से बढ़कर एक स्टाइल मिल जायेंगे. लड़का हो या फिर कोई लड़की… हर कोई अपने कपड़ों के हिसाब से सनग्लासेस का इस्तेमाल करते नज़र आते हैं.

सनग्लासेस आज उपलब्ध सबसे लोकप्रिय फैशन में से एक है. खासकर युवाओं में तो इनको लेकर खास तरह का क्रेज देखा जा सकता है. शायद यही कारण है कि बाजार में ‘रे बन’ और ओकले, इंक जैसी कंपनियां बड़े स्तर पर सनग्लासेस के व्यापार में लगी हुई हैं. वह युवाओं को लुभाने के लिए समय-समय पर कई शैलियों और रंगों वाले सनग्लासेस बाजार में उतारती रहती हैं.

आधुनिक सनग्लासेस कुछ इस तरह से बनाये जा रहे हैं कि ये सिर्फ फैशन ही न बन के रह जाएँ, बल्कि लोगों के लिए लाभदायक भी हों! बताते चलें कि आधुनिक सनग्लासेस में यूवी फिल्टर जैसी तकनीक का प्रयोग किया जा रहा है, जो त्वचा के कैंसर, मोतियाबिंद जैसी गंभीर समस्याओं से आंखों को बचाने के लिए जानी जाती हैं.

Wayfarer Fleck (Pic: ray-ban)

कुल मिलकार तेजी से बदलते वक्त में सनग्लासेस लोगों की लाइफस्टाइल बन चुके हैं. यही कारण है कि आपको खासकर गर्मियों के दिनों में शायद ही कोई व्यक्ति बिना सनग्लासेस के दिखाई दे. वह पर्स और बेल्ट की तरह हमारी आलमारी का हिस्सा बन चुका है.

Web Title:History Of Sunglasses, Hindi Article

Featured image credit / Facebook open graph: essentialhome