आपने बहुत बार सुना होगा कि चूहों के कारण हमें बहुत सी बीमारियाँ होती हैं. यह अपने साथ कई तरह के इन्फेक्शन भी लेकर आते हैं. इन सबके बावजूद भारत में एक मंदिर ऐसा है जो खास चूहों के लिए ही जाना जाता है.

इस मंदिर में इतने चूहे हैं कि जहाँ नज़र जाएगी वहां वह आपको दिखेंगे. इसके बावजूद भी कोई इन्हें भगाता नहीं है बल्कि इन्हें और खिलाता है. तो चलिए आपको बताते हैं कि आखिर क्या है ऐसा खास इस मंदिर में–

हज़ारों सैनिकों को बनाया चूहा!

राजस्थान के बीकानेर से 30 किलोमीटर की दूरी पर देशनोक में स्थित यह मंदिर करणी माता को समर्पित है. करणी माता को लोग दुर्गा माता के अवतार के रूप में मानते हैं.

कहते हैं कि करणी माता के मंदिर का निर्माण 15 वीं शताब्दी में बीकानेर के महाराजा गंगा सिंह द्वारा करवाया गया था. आप को बता दें कि इस मंदिर की बनाई गई वास्तुकला मुगल शैली से प्रभावित हो कर बनाई गई थी. यह मंदिर बस एक ही कारण से प्रसिद्ध है और वह है इसके अंदर बसने वाले चूहे.

इन चूहों के यहाँ होने के पीछे कई सारी कहानियाँ हैं. जो सबसे प्रसिद्ध कहानी है वह है 20,000 सैनिकों की!

माना जाता है कि एक समय में करीब 20,000 सैनिक एक जंग से अपनी जान बचा के भाग खड़े हुए थे.

भागते-भागते वह सभी सैनिक देशनोक पहुँच गए. करणी माता को इस बात का पता चल गया कि उन्होंने क्या किया है. कहते हैं कि उस समय जंग से भागना बहुत बड़ा जुर्म माना जाता था, जिसके लिए मौत की सजा भी हो सकती थी! करणी माता ने उन सब पर रहम किया और उनकी जान बख्स दी.

माता ने उनके प्राण तो नहीं लिए, लेकिन उन्हें सजा देना उनका कर्तव्य था!

कहते हैं सजा के तौर पर माता ने उन सब को चूहा बना दिया. चूहा बनाने के बाद जिस जगह आज मंदिर बना है, वह जगह उन्होंने चूहों को रहने के लिए दे दी. उस दिन से ही उन चूहों ने प्रण ले लिया कि वह सदैव ही माता के पास रहेंगे. उस दिन के बाद से सालों से चूहे उसी मंदिर में बसे हुए हैं.

यह कहानी कितनी सच्ची है और कितनी नहीं यह कोई नहीं जानता. माता के भक्तों के लिए तो यही परम सत्य है.

Karni Mata Rat Temple Of Rajasthan (Pic: international…)

चूहों को यहाँ पूजा जाता है…

आज के समय में यहाँ चूहे 20,000 से भी ज्यादा हो गए हैं. मंदिर में कहीं भी चले जाओ यह आपको दिख ही जाएंगे. इतना ही नहीं, जिस तरह लोग करणी माता की पूजा करते हैं वह बाद में इन चूहों को भी पूजते हैं.

भक्तों की नज़र में यह सभी चूहे करणी माता से जुड़े हैं, इसलिए वह इन्हें भी पवित्र मानते हैं और इनकी पूजा करते हैं. यहाँ पर सबसे अधिक चूहे काले रंग के हैं. यह चूहे यहाँ आने वालों के ऊपर चढ़ते हैं… उनके ऊपर रेंगते हैं… लोगों का प्रसाद खाते हैं… लेकिन फिर भी कोई इन्हें कुछ नहीं कहता.

मंदिर में खुद प्रसाद खाने से पहले अगर चूहों को खिलाया जाए तो यह काफी अच्छा माना जाता है. इतना ही नहीं, चूहों द्वारा जूठा किया हुआ प्रसाद खाना तो यहाँ और भी ज्यादा अच्छा माना जाता है.

हाँ कई लोगों को शायद इससे परेशानी भी होती हो, लेकिन यहाँ आने वालों के लिए यह कोई बड़ी बात नहीं है.

Rat Eating Prasad In Temple (Pic: wikimedia)

मंदिर में चूहों को मारना है पाप!

करणी माता के मंदिर में चूहों के लिए बहुत आस्था है. इस मंदिर में चूहों का खासतौर से ध्यान रखा जाता है. यह चूहे ही इस मन्दिर की जान हैं. इनके कारण ही आज यह मंदिर विश्व प्रसिद्ध हुआ है. यहाँ पर आप आ तो जाएंगे, लेकिन अपना हर कदम आपको देख कर रखना पड़ेगा. आपके किसी भी कदम पर चूहा आपके पैर के नीचे आ सकता है. यहाँ पर इस बात का खास ख्याल रखना पड़ता है.

मंदिर के नियमों के मुताबिक चूहों को किसी भी प्रकार से कोई हानि नहीं पहुँचनी चाहिए. हर एक चूहे पर नज़र रखी जाती है. चूहे को हानि पहुँचाना मंदिर में एक बहुत बड़ा पाप माना जाता है.

कहते हैं कि अगर कोई गलती से भी किसी चूहे को मार देता है, तो वह सजा का हकदार होता है. उस व्यक्ति की सजा है कि उसे उस चूहे की एक सोने या चाँदी की प्रतिमा बनवानी पड़ेगी. जब वह प्रतिमा बन जाए, तो उसे मंदिर को भेंट करना है.

यही एक तरीका है अपने पाप को खत्म करने के लिए. कई लोगों के लिए यह अन्धविश्वास भी हो सकता है, किन्तु कई इसे परंपरा के नाम पर देखते हैं.

Karni Mata Rat Temple Of Rajasthan (Pic: shadowsgalore)

आज तक नहीं हुई चूहों से कोई बीमारी…

इसे लोगों की आस्था कहा जाए या फिर किस्मत का खेल, लेकिन एक बात तो है कि आज तक इस मंदिर में आए किसी भी व्यक्ति को चूहों के कारण कोई बीमारी नहीं हुई.

हर कोई इस बात से हैरान हो जाता है कि आखिर यह कैसे संभव है?

दुनिया भर में चूहों के कारण इतनी बीमारियाँ फैलती हैं. कई लोगों की इसके कारण ही मौत होती है, लेकिन यहाँ करणी माता के मंदिर में इनसे कोई खतरा ही नहीं. लोग इनकी जूठन तक खाते हैं पर फिर भी उन पर इनका कोई असर नहीं होता.

ऐसे में यह मंदिर सच में एक अजूबा ही नज़र आता है.

ऐसा ही एक और अजूबा इस मंदिर में है. कहते हैं कि काले चूहों से भरे इस मंदिर के अंदर कुछ एक सफेद चूहे भी हैं. यह चूहे बहुत ही कम दिखाई देते हैं. धारणाओं की मानें तो अगर आपने हज़ारों काले चूहों के बीच एक सफेद चूहा देख लिया तो आपकी किस्मत बहुत अच्छी है.

माना जाता है कि वह सफेद चूहे कोई और नहीं बल्कि खुद माता करणी हैं. उनके साथ रहने वाले बाकि और सफेद चूहों को उनके बेटे स्वरुप माना जाता है. वह सफेद चूहे बहुत ही कम बाहर दिखाई देते हैं और अधिकतर समय दुनिया की नजरों से दूर ही रहते हैं.अगर आप कभी यहाँ गए और आपको वह दिख जाएं तो खुद को खुशनसीब मानिएगा.

Rats Roaming Inside The Karni Mata Mandir (Pic: mirror)

देखा आपने कितना अदभुत है करणी माता का यह मंदिर. हर साल कितने ही श्रद्धालु और पर्यटक इस मंदिर को देखने आते हैं. अब तो विदेशों तक इस मंदिर के चर्चे हैं!

Web Title: Karni Mata Rat Temple Of Rajasthan, Hindi Article

Featured Image Credit: crooked/gadventures