भले ही आज के आधुनिक दौर में प्यार के तरीके और मायने बदल गए हों, बावजूद इसके जब भी प्रेमी युगलों की बात होती है, तो लोगों की जुबा पर हीर-रांझा, सीरी-फराद के साथ एक और जोड़ी का नाम आ ही जाता है.

वह जोड़ी कोई और नहीं बल्कि सलीम-अनारकली की है.

उन दोनों की प्रेम कहानी किस तरह की रही होगी, इसका अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि कई फिल्मकारों ने इसे अपनी फिल्म की कहानी बनाया.

मशहूर फिल्म मुग़ल-ए-आज़म इसका बड़ा उदाहरण है. कहा जाता है कि इस फिल्म को बनाने कि लिए निर्माताओं ने अपना सबकुछ दांव पर लगा दिया था. यहां तक कि उन्होंने अपना घर तक गिरवी रख दिया था.

तो आईये जानने की कोशिश करते हैं कि ऐसा क्या खास था सलीम-अनारकली की कहानी में–

बड़ी मिन्नतों से पाया था अकबर ने सलीम को…

बात उस जमाने की है जब मुगल बादशाह अकबर अपनी कोई भी संतान ना होने को लेकर चिंतित थे. वह एक कुल दीपक की चाह में देश और दुनिया के सभी मंदिर मस्जिदों के चक्कर लगा चुके थे.

इसी सिलसिले में वह सूफी संत शेख सलीम सुल्तान चिश्ती के पास पहुंचे. बड़ी मन्नतों और उनके आशीर्वाद से उनके घर में एक लड़के ने जन्म लिया जिसका नाम था जहांगीर उर्फ सलीम.

वह अकबर का चहेता बेटा था क्योंकि इसके जन्म लेने के बाद से ही उसकी कई रानियों की गोद भर आई और सलीम के अन्य भाईयों का जन्म हुआ.

अकबर उसे प्यार से शेखू कहकर पुकारते थे. अकबर ने सलीम की शादी आमेर के राजा भगवान दास की बेटी मानबाई से कर दी.

हालांकि वह उसकी एक मात्र पत्नी नहीं थीं. इसके बाद सलीम उर्फ जहांगीर ने बहुत सारी शादियां की.

एक दिन अपने पिता और बादशाह के दरबार में सलीम  की नजर एक लड़की पर पड़ी जिसका नाम अनारकली था.

उसके रूप-रंग को देखकर शहजादे सलीम उसके दीवाने हो गए. यहीं से शुरू होती है दोनों के प्यार की दास्तां.

कहते हैं कि अनारकली की खूबसूरती के चर्चे पूरे लाहौर में थे. इसकी खबर जब बादशाह अकबर को लगी तो उन्होंने अनारकली को अपने दरबार में बुलाया.

दरबार में अनारकली ने उनके सामने गजब का नृत्य पेश किया. अकबर उसका नृत्य और रूप देखकर आश्चर्यचकित रह गए.

उन्होंने खुश होकर अनारकली को अपने दरबार की नृतिका घोषित कर दिया. उस दिन से अनारकली का काम था शाही दरबार में लोगों के आगे नृत्य कर उनका मनोरंजन करना.

Akbar With His Son Saleem (Representative Pic: ghazipurwalamakki)

शहजादे सलीम को हो गया ‘अनारकली से प्यार’

अकबर के दरबार में अनारकली का नृत्य देखते-देखते शहजादे सलीम उसके प्यार में गिरफ्तार हो गए. वहीं दूसरी ओर अनारकली भी सलीम के नूर से खुद को बचा नहीं सकी.

धीरे-धीरे दोनों का प्यार परवान चढ़ने लगा. दोनों अक्सर एक दूसरे से छुप-छुपकर मिलने लगे. वह दोनों जितना एक दूसरे से मिलते उतना ही उनका प्यार परवान चढ़ता. दोनों के बीच सब ठीक चल रहा था कि तभी नूरजहाँ की नजर उन पर लग गई.

वह बादशाह अकबर की दासियों में से एक थी, जिसे शहजादे सलीम से प्यार हो गया था. कहते हैं कि वह चाहती थी कि सिर्फ उसका ही हक सलीम पर हो मगर ऐसा करने में वह कामयाब नहीं हुई. सलीम तो अनारकली की मोहब्बत में डूब चुके थे.

इस वजह से ही नूरजहाँ ने सलीम अनारकली के प्रेम-प्रसंग के बारे में बादशाह अकबर को बता दिया!

Saleem Fall In Love With Anarkali (Representative Pic: pintrest)

अकबर बने सलीम अनारकली के प्यार के बीच ‘दीवार’

अकबर और उनके चहेते बेटे के बीच मनमुटाव का कारण बनी सलीम और अनारकली की प्रेम कहानी.

अकबर नहीं चाहते थे कि उनका बेटा एक नाचनेवाली से शादी करे. वह नहीं चाहते थे कि कोई ऐसी लड़की हिन्दुस्तान की मलिका बने.

यही बात अकबर को खटक रही थी. ऐसा होता तो ये मुगल सलतनत के लिए बहुत ही शर्मनाक बात होती. इसलिए अकबर ने सलीम और अनाकरली को अलग करने की ठान ली.

अकबर ने सलीम को अनारकली को कभी न देखने की हिदायत दी मगर सलीम का दिल नहीं माना. सलीम अपने ही पिता के खिलाफ हो गए.

उन्हें लगने लगा कि उनके पिता ही उनके प्यार के असली दुश्मन हैं. बात तो तब बिगड़ी जब सलीम को लगा कि अब उसके सामने कोई चारा नहीं है सिवाए जंग के.

इसके बाद सलीम ने अपने ही पिता के खिलाफ जंग का आगाज कर दिया.

पिता और बेटे में एक घमासान युद्ध होता है मगर आखिर में सलीम अकबर की सेना के आगे हार जाते हैं. अकबर अपने ही बेटे को बंदी बना लेते हैं.

कहते हैं कि अकबर ने इसके बाद सलीम के आगे दो सुझाव रखे. एक या तो वह अनारकली को छोड़ दें वरना मौत को गले लगा लें.

सलीम भी अपने प्यार के लिए मरने को तैयार हो जाते हैं. हालांकि इससे पहले ही अनारकली सलीम के प्यार के लिए अपनी जिंदगी कुर्बान करने को राजी हो जाती हैं.

इसके बाद अनारकली और सलीम एक रात साथ गुजारते हैं और अगले ही दिन अकबर अनारकली को जिंदा दीवार में चुनवा देते हैं.

उस एक रात के बाद सलीम-अनारकली तो अलग हो जाते हैं मगर उनकी यह प्रेम कहानी हमेशा के लिए अमर हो जाती है.

Saleem And Akbar Fought A War Because Of Anarkali (Representative Pic: eyeni)

लाहौर में मौजूद है ‘अनारकली की कब्र’

सलीम ने अपने पिता अकबर की मौत के बाद लाहौर के महल में उसी जगह पर अनारकली का मकबरा बनवा दिया जहां पर उसे जिंदा चुनवाया गया था.

इस मकबरे पर दो तारीखें लिखीं हैं. एक 1599 जब अनारकली की मौत हुई थी और दूसरी 1615 जब इस मकबरे का निर्माण पूरा हुआ था.

पाकिस्तान के लाहौर में अनारकली की कब्र आज भी मौजूद है और यहां अब बाजार लगता है जिसे अनारकली मार्केट कहा जाता है.

पाकिस्तान में ये मार्केट महिलाओं से जुड़े सामान की शॉपिंग के लिए फेमस है. इस बाजार के दो हिस्से हैं पुराना अनारकली मार्केट और नया अनारकली मार्केट.

Anarkali Tomb In Lahore (Pic: wikipedia)

बन चुकी हैं इस प्रेम कहानी पर कई ‘फिल्में’

सलीम और अनारकली की इस प्रेम कहानी ने बहुत से निर्माता-निर्देशकों को अपनी ओर आकर्षित किया. तभी तो इस कहानी पर बहुत सी फिल्में बन चुकी हैं.

इस पर पहली फिल्म बनी थी ‘लव्स ऑफ मुगल प्रिंस’. साल 1928 में आई इस फिल्म को प्रफुल्ल राय ने बनाया था.

इसके बाद फिल्मकार नंदलाल जवंतलाल ने साल 1953 में फिल्म ‘अनारकली’ का निर्माण किया.

इसके बाद बनी भारतीय सिने जगत की अबतक की सबसे बेहतरीन क्लासिक फिल्म ‘मुग़ल-ए-आज़म’.

साल 1960 में रिलीज हुई मुग़ल-ए-आज़म फिल्म उस जमाने की सबसे मंहगी फिल्म थी.

इसे बनाने में उस जमाने में करीब 1 करोड़ रुपये की लागत आई थी. एक बार ये फिल्म सिलवर स्क्रीन पर रिलीज हुई तो इस फिल्म ने दशकों तक सिनेमा पर राज किया.

इस फिल्म की कहानी सलीम और अनारकली की प्रेम कहानी पर बेस्ड थी. इसकी कहानी, स्टारकास्ट, इसके भव्य सेट और कलाकारों की बेहतरीन अदाकारी आज भी लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती है.

ये एक ऐसी फिल्म है जिसे एक बार देखने के बाद कभी भुलाया ही नहीं जा सकता. इस फिल्म ने अनारकली और सलीम की लव स्टोरी को हमेशा के लिए अमर कर दिया.

Mughal-E-Azam Movie Poster (Pic: amazon)

तो यह थी सलीम और अनारकली की रियल लव स्टोरी. हालांकि इतिहासकारों के बीच आज भी इस कहानी के विभिन्न एंगल चर्चा का विषय बने रहते हैं.

सलीम और अनारकली की कहानी हर व्यक्ति अपने-अपने ढंग से बताता है.

खैर जो भी हो मगर यह वाला एंगल विश्व भर में प्रसिद्ध है. जिसमें अपने प्यार के लिए अनारकली अपने जीवन की बलि दे देती है.

अपना अनुभव अवश्य शेयर करें!

Web Title: Real Love Story Of Saleem & Anarkali, Hindi Article

Featured Image Credit: imdb