ग़दर फिल्म तो आपने देखी ही होगी. आपको यह भी पता होगा कि कैसे उस फिल्म में सनी देओल अपनी पत्नी को पाने के लिए पाकिस्तान चले जाते हैं. पर क्या आप जानते हैं कि ग़दर महज एक फिल्म की कहानी नहीं, बल्कि किसी की असल जिंदगी की दास्तान है.

यह कहानी हिन्दुस्तानी बूटा सिंह की है. आज भले ही बूटा सिंह का नाम कम लोग जानते हों, लेकिन एक वक़्त था जब उनकी प्रेम कहानी हर किसी की जुबान पर थी. तो आईये अतीत के पन्नों से बूटा सिंह की प्रेम-कहानी को पढ़ने की कोशिश करते हैं:

कौन थे बूटा सिंह?

यह बात हिन्दुस्तान की आज़ादी से पहले की है. बूटा सिंह (Link In English) भारतीय सेना के एक फ़ौजी थे. वह दूसरे विश्व युद्ध का हिस्सा भी रहे थे. चूंकि, उस समय जंग पूरे जोर पर थी, इसलिए बूटा ने अपनी जवानी का ज्यादातर वक़्त फ़ौज में ही बिता दिया था. जंग खत्म हुई तो बूटा अपने देश लौटे. लौटकर उन्होंंने देखा कि उनका देश बदल चुका है. बूटा की मां भगवान को प्यारी हो चुकी थी. मां का न रहना बूटा के लिए बड़ा सदमा था. वह रिटायरमेंट ले चुके थे, इसलिए सेना में वापसी के रास्ते भी बंद हो चुके थे. स्कूल के कुछ साथी थे, लेकिन वह भी शादी करके अपनी निजी जिंदगी में व्यस्त हो चुके थे.

बूटा एकदम अकेले हो चुके थे. लोगों ने उन्हें सलाह दी कि उन्हें शादी के बारे में सोचना चाहिए. बूटा ने इस राय पर ध्यान दिया और शादी के लिए पैसे जुटाने शुरु कर दिए. जल्द ही वह कुछ पैसे जुटाने में सफल रहे. बस अब उन्हें एक अच्छे जीवन साथी की दरकार थी.

Untold Love Story Of Boota Singh (Representative Pic: reddit.com)

बंटवारे के दौरान हुई पहली मुलाकात

देश की आज़ाद के बाद का समय था. चारों तरफ बंटवारे को लेकर अफरा-तफरी मची हुई थी. विश्व के नक्शे पर भारत से अलग करके पाकिस्तान के रुप में एक नया देश बनाया जा चुका था. भारत के एक बड़े हिस्से के लोग पाकिस्तान जा रहे थे. इसी आने-जाने की प्रक्रिया ने कब दंगे का रुप ले लिया, किसी को पता तक नहीं चला. लोग एक दूसरे के खून के प्यासे बन चुके थे. हर तरफ मौत का मंज़र था.

इसी बीच बूटा सिंह अपने घर की चौखट पर बैठे थे, तभी अचानक एक खूबसूरत लड़की (Link In English) उनके पास भागते हुए मदद के लिए आई. वह बहुत घबराई हुई थी. उसके माथे से टपकता पसीना, तेज चलती सांसें और चेहरे पर पड़ा खौफ बता रहा था कि दंगाई उसके पीछे थे. बूटा सिंह ने बिना सवाल के उसे तुरंत अपने घर में पनाह दी. कुछ ही पल में दंगाई वहां पहुंच गये और बूटा से उस लड़की को उन्हें सौंपने के लिए कहने लगे. बूटा संकट में थे, उन्हें समझ नहीं आ रहा था कि वह क्या करें. बूटा जानते थे कि झगड़े से कोई हल निकलने वाला नहीं था, इसलिए उन्होंने दंगाईओं को अपनी बचत के पैसे देकर मामला सेटल कर लिया.

पैसे मिलते ही वह गुंडे वहां से चले गए. लड़की अभी भी सहमी हुई थी. बूटा ने आगे बढ़कर उसे पानी दिया और हौंसला देते हुए कहा, आप यहां सुरक्षित हैं. आंखें खोलकर देखिए यहां कोई नहीं है.

सब जा चुके हैं!

Untold Love Story Of Boota Singh (Representative Pic: Love Video)

इज़हार-ए-इश्क…

जो लड़की बूटा सिंह के घर में थी, वह मुस्लिम थी. उसका नाम ज़ेनाब था. बाहर खून खराबा चल रहा था, तो ज़ेनाब ने बूटा के घर में रुकना सही समझा.

लेकिन, बिन शादी के कोई लड़की बूटा के घर में रह रही थी, यह बात पंचायत को बिल्कुल भी पसंद नहीं आ रही थी. उन्होंने बूटा सिंह को बुलाया और उनके आगे दो शर्त रखी थी. उन्होंने कहा या तो उस लड़की को घर से निकाल दें या फिर उससे शादी कर ले. बूटा ने सोचा कि उसे वापस भेजना ही सही रहेगा.

उन्होंने ज़ेनाब के लिए लाहौर (Link In English) जाने का बंदोबस्त किया था. जिस दिन ज़ेनाब को लाहौर जाना था, उसी दिन उसने बूटा के सामने अपना दिल खोल के रख दिया. उसने बूटा से कहा ‘अगर आप मेरे लिए रोज बस दो रोटी का भी इंतजाम कर देंगे, तो मैं कभी पाकिस्तान नहीं जाऊंगी. मैं अपनी पूरी जिंदगी आपके साथ गुज़ारना चाहती हूं. ज़ेनाब के दिल की बात सुनते ही बूटा ने भी उसके प्यार को मंज़ूरी दे दी थी.

अगले ही दिन दोनों शादी के बंधन में बंध गए थे. दोनों हंसी ख़ुशी रहने लगे थे. एक साल के भीतर ही जेनाब बूटा के बच्चे की मांं बनीं. वह पूरी तरह से अपनी जिंदगी बूटा के नाम कर चुकी थीं.

Untold Love Story Of Boota Singh (Representative Pic: themovies…)

… और बिछड़ गए दो दिल!

बूटा की जिंदगी सही चल रही थी. अब वह पिता बन चुके थे. सब हंसी ख़ुशी चल रहा था. तभी भारत और पाकिस्तान दोनों ही देशों ने तय किया कि वह दंगे के कारण अपने परिवारों से जुदा हो गये लोगों को वह उन तक पहुंचायेगी. जल्द ही इसकी सूची तैयार की गई. इस सूची में ज़ेनाब का भी नाम था. वह जाना नहीं चाहती थी, लेकिन परिवार से मिलने की चाह के कारण वह अपने बच्चे के साथ पाकिस्तान लौट गई थी.

ज़ेनाब के जाने से बूटा की जिंदगी एक बार फिर से वीरान हो गई थी. चूंकि, जे़नाब ने बूटा से वादा किया था कि वह कुछ ही दिनों में वापस आ जायेंगी, इसलिए वह हर दिन उनके आने का इंतजार करते थे. धीरे-धीरे जब ज्यादा वक्त बीत गया तो, उन्होंंने तय किया कि वह अपनी पत्नी को खुद लेकर आयेंगे. इसके लिए वह संबंधित सरकारी ऑफिस गये. वहां वह पाकिस्तान जाने की विनती कर रहे थे, लेकिन हिन्दुस्तानी होने की वजह से उन्हें अधिकारियों ने वीजा नहीं दिया. मजबूरन बूटा ने तय किया कि वह मुसलमान (Link In English) बनकर पाकिस्तान जायेंगे.

उन्होंने अपने बाल काट दिए थे और पूरी तरह से एक मुसलमान का हुलिया बना लिया. अगले कुछ ही दिनों में वह पाकिस्तान पहुंचने में सफल रहे. वह सबकी नज़रों से बचते, बचाते ज़ेनाब के गांव नूरपुर पहुंचे गये, लेकिन ज़ेनाब के घर वालों ने उन्हें अपनी पत्नी से नहीं मिलने दिया. उन्होंने उसके साथ बुरा सलूक करते हुए पुलिस को सौंप दिया. बूटा के खिलाफ केस दर्ज किया गया. उन्हें जज के सामने पेश किया गया तो उन्होंने पाकिस्तान आने की असल वजह बताई. बूटा की बातों पर यकीन करके ज़ेनाब को कोर्ट में बुलवाया गया. वह ज़ेनाब के मुंह से सच सुनना चाहता था.

ज़ेनाब जब कोर्ट पहुंची तो वह हर तरफ से अपने परिवार वालों से घिरी हुई थीं. कोर्ट के सामने उन्होंने बूटा को पहचानने (Link In English) से इंकार कर दिया था. यह सुन बूटा के पैरों तले ज़मीन खिसक गई थी. माना जाता है कि ज़ेनाब ने ऐसा पारिवारिक दबाव के चलते किया था. कोर्ट ने बूटा को वापस लौटने का फैसला सुनाया. बूटा सिंह यह सहन नहीं कर पाया और एक चलती ट्रेन के सामने कूदकर अपनी जान दे दी. उनके पास से एक ख़त मिला था, जिसमें लिखा था कि उनकी आखिरी इच्छा है कि उन्हें ज़ेनाब के गांव नूरपुर में दफनाया जाए. वह चाहते थे कि उनकी कब्र पर ही सही, पर किसी बहाने से ज़ेनाब उनसे मिलने आती रहें.

बूटा का यह खत पढ़कर सभी के आंखें नम थीं. सारी दुनिया उसको सलाम कर रही थी. बूटा अब नहीं थे, लेकिन उनका प्यार अमर हो चुका था. बाद में उनके प्यार की शहादत को देखकर, उन्हें ‘शहीद-ए-मोहब्बत’ कहकर बुलाया गया.

Untold Love Story Of Boota Singh (Representative Pic: Love Video)

बूटा सिंह उन चंद नामों में से थे, जिन्होंने अपने प्यार के लिए सारी हदें तोड़ दीं. बूटा की कहानी को सुनने वाला हर कोई प्रभावित हो जाता है. बॉलीवुड की मशहूर फिल्म ‘ग़दर’ इनकी ही कहानी से प्रभावित मानी जाती है.

Web Title: Untold Love Story Of Boota Singh, Hindi Article

Keywords: Boota Singh, Legend, Love, Romance, Romantic, Zenab, Partition, Hindustan, Pakistan, India, Masscarce, Killing, Dead, Prostitution, Military, World War II, British, Indian Independence, Gadar, Saheed-E-Mohabbat, Love Stories, Suicide, Untold Story, Real Story, Love Story, Government, Riots, Untold Love Story Of Boota Singh, Hindi Article

Featured image credit / Facebook open graph: SA Records