प्यार...

इस शब्द का पहला अक्षर आधा है, इसलिए शायरों ने कहा ​है कि प्यार कभी मुकम्मल नहीं होता. वह आधा ही रहता है और उस आधे को ही पूरा समझ आशिक कसमें-वायदे करते हैं.

किन्तु, यह अधूरापन फिर भी बना रहता है. कभी इसके दिल में, तो कभी उसके दिल में!

बहरहाल यह भले ही मुकम्मल न हो, लेकिन प्यार करने वालों की कमी नहीं है. दुनिया में ऐसा शायद ही कोई होगा, जिसका इश्क से पाला न पड़ा हो. कुछ ने अपने इश्क से सारे जहां को जीता और कुछ इश्क में सब कुछ हार गए.

टीना मुनीम खुश नसीब थी, जो उन्होंने इश्क के यह दोनों दस्तूर निभाने का मौका मिला. उन्होंने इश्क में अपना दिल हारा और सम्मान भी. फिर खुद को सम्हाला और टीना मुनीम से टीना अंबानी बनकर दुनिया की हर खुशी को हासिल कर लिया.

जी हां, अंबानी परिवार के बेटों की चर्चा तो खूब हुई है, लेकिन आज हम बात कर रहे हैं इस परिवार की बहू यानी टीना अंबानी की. वो टीना...जिनके आगे आज पूरी दुनिया सलाम करती है. पर एक वक्त था, जब उन्हें प्यार की राह में अपमान के घूंट पीने पड़े थे. सबसे अमीर घराने की बहू बनने से पहले उन्होंने किसी के आगे प्यार की भीख मांगी थी.

तो आईए पढ़ते हैं टीना मुनीम के जीवन के उस चैप्टर को, जिसे वह शायह ही याद करना चाहेंगी—

देवानंद का क्रश थीं टीना मुनीम

मासूम चेहरे वाली टीना को मशहूर अभिनेता, निर्माता-निर्देशक देवानंद की खोज माना जाता है. 1975 में एक अंतर्राष्ट्रीय सौन्दर्य प्रतियोगिता में जीत हासिल करने वाली टीना पर पहली नजर देवानंद की पड़ी थी.

देवानंद उनकी खूबसूरती और मासूमियत के इस कदर कायल हुए कि उन्हें सीधे फिल्म 'देस-परदेस' आॅफर कर दी. टीना के लिए बॉलीवुड नया ही था और देवानंद का साथ भी. उन्होंने देर न करते हुए फिल्म के लिए हां कह दी और 1978 में पहली बार बॉलीवुड डेब्यू किया. पहली ​ही फिल्म से दर्शकों और निर्माता-निर्देशकों ने टीना को नोटिस करना शुरू कर दिया.

कहा जाता है कि देवानंद ने टीना को और ज्यादा फिल्में दिलाने में काफी मदद की. वे हर वक्त उनके आसपास साए की तरह रहते थे. यहां तक की शुरूआत में उनके करियर से जुड़े हर फैसले लेने का हक केवल देवानंद को था.

देव साहब टीना के ​लिए जितना पजेसिव हो रहे थे. उससे यह जाहिर था कि वे दिल ही दिल में टीना के लिए कुछ महसूस करते हैं, लेकिन टीना अल्हड़ रहीं. उन्होंने कभी उन जज्बातों को खुलकर सामने नहीं आने दिया.

वे देव साहब और अपने बीच एक हद बनाएं रखना चाहती थीं!

यह बात और है कि बॉलीवुड के आशिक मिजाज देवानंद के नए अफेयर के चर्चे जोरों पर थे. हर कोई जानता था कि वो टीना को पसंद करते हैं, पर टीना ने इस रिश्ते को प्यार में तब्दील नहीं होने दिया.

पहली ही सुपरहिट फिल्म देने के बाद टीना फिल्मों में मशरूफ हो गईं.

वहीं ढलती उम्र देवानंद के चेहरे पर दिखने लगी थी. फिर भी देव की दीवानी टीना के लिए कम नहीं हुई. हालांकि, समय गुजरने के बाद टीना ने फिल्मों का चुनाव खुद करने की इच्छा जाहिर की और यहीं से दोनों के रास्ते अगल होना शुरू हुए.

Tina and Devanand's Affair (Pic: itsourtree.com)

संजय के लिए ठुकरा दी सुपरहिट फिल्में

टीना करियर के प्रति गंभीर थीं. देवानंद का जीवन में जरूरत से ज्यादा दखल उन्हें रास नहीं आ रहा था. उन्होंने देव का विरोध करना शुरु कर दिया. आगे संजय दत्त ने बॉलीवुड में डेब्यू किया, तो टीना ने उनके साथ काम करने की इच्छा जताई.

70 के दशक में टीना सबसे चुलबुली अदाकारा थीं. संजय दत्त की पहली फिल्म 'रॉकी' के लिए उनसे अच्छा विकल्प और कोई नहीं था. इसलिए सुनील दत्त ने भी तत्काल हामी भर दी. कहते हैं कि रॉकी में काम करने के लिए टीना ने देव की दो फिल्में 'लवस्टोरी' और 'एक दूजे के लिए' ठुकरा दी थी. साथ ही सभी रिश्ते भी खत्म कर लिए थे.

टीना और संजय दत्त ने साथ काम करना शुरू कर दिया.

हालांकि, यह उनकी पहली मुलाकात नहीं थी. बहुत कम लोग जानते हैं, पर टीना ने संजय दत्त के साथ एक ही स्कूल में पढ़ाई की थी. दोनों अच्छे दोस्त थे, लेकिन रॉकी के सेट पर उनकी नजदियां बढने लगीं थी. कहा जाता है कि यह खबर सुनील दत्त तक भी पहुंचीं, तो उन्होंने सेट पर आना शुरू कर दिया.

ताकि, वे संजय दत्त पर नजर रख सकें. इसके बाद भी जब कभी संजय को वक्त मिलता, वे टीना के साथ वक्त गुजारते.

खुद संजय दत्त ने भी एक इंटरव्यू में यह कबूल किया है कि वे इस रिश्ते को लेकर गंभीर थे. वह टीना के साथ खुश थे, लेकिन संजू बाबा को उसी दौरान गलत संगत का साथ मिला. वे नशे के आदी हो गए.

टीना यह जानती थी कि संजू शराब पीते हैं, पर उन्होंने विरोध करने की बजाए इसे चैलेंज के रूप में लिया. वह लगातार कोशिश करती रहीं कि संजू किसी तरह नशा छोड़ दें. वहीं संजय दत्त शराब, सिगरेट के बाद ड्रग्स के आदि हो चले थे.

Tina's first love was Sanjay Dutt (Pic: itsourtree.com)

टीना के लिए ऋषि कपूर से लड़ गए थे संजू

टीना संजय के साथ शादी के सपने संजों रहीं थीं और वह नशे की दुनिया में खो रहे थे. ऋषि कपूर की ऑटोबायोग्राफी ‘खुल्लम खुल्ला: ऋषि कपूर अनसेंसर्ड’ में ऋषि कपूर ने संजय दत्त और टीना के अफेयर का एक किस्सा बयां किया है.

उन्होंने बताया कि मैंने टीना मुनीम के साथ कई फिल्मों में काम किया था. लोग हमारी जोड़ी को पसंद करते थे. फिल्म में काम करते करते हम अच्छे दोस्त बन गए थे. जबकि, लोग हमारी नजदीकियों के कुछ और ही मतलब निकाल रहे थे. हमारे अफेयर की कहानियां बननी शुरू हो गईं थी. उस दौरान मेरी शादी नहीं हुई थी, इसलिए यह बात और भी ज्यादा सच लग रही थी.

बाकी लोगों की तरह संजय दत्त को भी यही लगा कि मैं उनकी गर्लफ्रेंण्ड को डेट कर रहा हूं. नशे की हालत में एक दिन संजय दत्त गुलशन ग्रोवर के साथ नीतू कपूर के घर पहुंचे. नीतू को देखते ही संजय ने कहा कि ऋषि तुम्हें धोखा दे रहा है.

वह मेरी गर्लफ्रेंण्ड को डेट कर रहा है. मैं उसे नहीं छोडूंगा. नीतू ने हालात को सम्हाला और बताया कि वो दोनों केवल अच्छे दोस्त है. यह बात खुद ऋषि ने मुझे बताई है. किताब में ऋषि ने यह भी लिखा है कि तब यह घटना बहुत गंभीर थी, पर आज मैं और संजय उस बात को याद करके हंसते हैं.

Rishi kapoor with Tina (Pic: Pinterest)

फिर प्यार में टीना ने खाया धोखा

संजय दत्त और टीना के रिश्ते से सुनील दत्त को तो कोई खास परेशानी नहीं थी, लेकिन नरगिस इस बात से परेशान थीं कि संजू की नशे की हालात बढ़ती जा रही थी. चाहतीं थी कि संजय दत्त लव अफेयर के चक्कर में न पडें.

उन्होनें संजय को टीना से दूर रहने की हिदायद भी दी.

टीना के साथ रिश्ते में रहते हुए संजय के जीवन में लड़कियों की कमी नहीं रही. उनके नए-नए अफेयर न केवल नरगिस के लिए, ​बल्कि टीना के लिए भी मुश्किलें पैदा कर रहे थे. आखिर टीना ने संजय से शादी की बात कर ही ली.

उनकी पहली फिल्म हिट थी और इसी खुशी के मौके पर संजय ने भी टीना से शादी का वायदा किया. टीना और संजय दत्त की शादी की खबरें फिल्म जगत में चर्चा का विषय बनी हुईं थी. टीना इस बात से खुश थीं, पर वे संजय के ड्रग्स लेने की आदत से बिल्कुल अंजान थी. 'रॉकी' के सुपरहिट होने के बाद दोनों एक बार फिर साथ काम करने वाले थे.

सुनील दत्त ने दोनों की नई फिल्म की घोषणा करने के लिए मुंबई के आलीशान होटल में पार्टी रखी. जहां, बाकी मेहमानों के बीच टीना और संजय दत्त भी मौजूद थे. सबसे खास बात यह थी कि संजय ने टीना से कहा कि वो उनके लिए तोहफा लाए हैं.

यह तोहफा फिल्म के एलान से पहले मिल जाएगा. टीना से रहा नहीं गया और उन्होंने पूछा कि तोहफा क्या है? संजय ने कहा-मंगलसूत्र. टीना खुशी से झूम उठी. संजय ने कहा कि यह तोहफा उन्हें सबके सामने दिया जाएगा.

इस बीच फिल्म की घोषणा के ठीक पहले संजय दत्त को नशे की तलब हुई. वे होटल के कमरे में पहुंच गए.

Sanjay dutt (Pic: pinterest.co.uk)

टीना मंगलसूत्र पहनना चाहती थी, मगर...

पार्टी से संजू को गायब देख टीना परेशान हो गईं. वह उन्हें तलाश करते हुए होटल के कमरे में दाखिल हुईं. संजय की आंखें लाल थीं. वे नशे में पूरी तरह धुत थे. टीना को पहली नजर में लगा कि संजय ने शराब पी रखी है.

टीना ने कहा कि क्या तुम नशे में हो? संजय ने कोई जवाब नहीं दिया.

टीना ने उन्हें सम्हालने के लिए हाथ आगे बढ़ाया. पर संजय ने हाथ झटक दिया. वह फिर से नशा करने लगे. संजय के हाथ में ड्रग्स देखकर टीना के पैरों तले जमीन खिसक गई. उन्होंने संजय से पूछा क्या तुम ड्रग्स लेते हो.

संजय खामोश रहे. टीना ने फिर से सवाल पूछा, तब तक नशा संजय के दिल और दिमाग पर छा चुका था. वह टॉयलेट की ओर बढे. टीना ने फिर पूछा मेरा प्यार तुम्हारे लिए सच है या झूठ? तुम मुझसे शादी करोगे या नहीं?

मेरा मंगलसूत्र कहां है? संजय दत्त नशे में नाचते हुए टॉयलेट से बाहर निकले. उनके हाथ में कमोड का ढक्कन था. टीना ने फिर पूछा मेरा मंगलसूत्र कहां है? संजय ने उनके गले में वह ढक्कन पहना दिया और जोर-जोर से हंसने लगे.

इस तरह जिस गले में टीना संजू के नाम का मंगलसूत्र पहनना चाहती थी उसमें टॉयलेट का ढक्कन डाल दिए जाने का अपमान टीना बर्दाश्त नहीं कर पाईं. वे रोते हुए कमरे से बाहर निकली और फिर घर चली गईं.

टीना और संजय के बिना उनकी नई फिल्म की घोषणा नहीं हो पाई.

Sonam Kapoor playing the role of Tina (Representative Pic: rediff.com)

राजेश खन्ना ने भी तोड़ा वायदा

संजय दत्त के दिल तोड़े जाने के बाद टीना डिप्रेशन में चली गईं. वे कई महीनों तक घर से बाहर नहीं निकल पाई. इसका असर उनके करियर पर भी दिख रहा था. इस बीच उन्हें राजेश खन्ना के साथ काम करने का आॅफर मिला. जीवन को फिर से सम्हालने का इससे अच्छा मौका और कोई नहीं था, इसलिए उन्होंने फिल्म पर काम करना शुरू कर दिया.

इस दौरान राजेश खन्ना से उनकी नजदीकियां बढ़ना शुरू हुईं. राजेश शादीशुद थे, पर फिर भी टीना ने उनका साथ पसंद किया. दोनों का प्यार एक बार फिर परवान चढ़ा और वे लिव इन रिलेशनशिप में रहने लगे.

टीना राजेश के प्यार में अपने पहले प्यार का दर्द भुलाने की कोशिश कर रहीं थीं. जबकि, काका केवल समय गुजारते रहे. जब काका ने डिंपल से अपनी शादी तोड़ने से मना कर दिया, तो एक बार फिर टीना के दिल को धक्का लगा.

काका के साथ टीना की आॅन स्क्रीन जोड़ी, जो हिट रही पर वे असल जीवन में साथ नहीं रह पाए.

राजेश और टीना ने 'फिफ्टी-फिफ्टी' (1981), 'सुराग' (1982), 'सौतन' (1983), 'अलग-अलग' (1985), 'आखिर क्यों' (1985), 'अधिकार' (1986) सहित कई फिल्मों में साथ काम किया था. 

Tina and Rajesh Khanna live in Relationship (Pic: viralshastra)

दो बार धोखा खाने के बाद क्या...

दो बार धोखा खाने के बाद अब टीना का मन बॉलीवुड में नहीं लग रहा था. आखिर उन्होंने मुंबई से दूरी बनाई और अमेरिका जाकर बस गईं. वहां पहली बार उनकी मुलाकात अनिल अंबानी से हुई.

अनिल ने एक इंटरव्यू में बताया कि मैंने टीना को पहली बार ब्लैक ड्रेस में देखा था. वे काफी खूबसूरत लग रही थीं. हालांकि, टीना को पहली बार अनिल पर कोई विश्वास नहीं हुआ. शुरु में वे मिलने के लिए तैयार नहीं थीं, पर काफी मशक्कत के बाद अनिल ने उन्हें मिलने के लिए राजी किया. फिर शादी के लिए प्रपोज कर दिया.

दो बार धोखा खाने के बाद टीना के लिए इस बात पर विश्वास करना मुश्किल था.

किन्तु, अनिल के प्यार ने उनमें फिर से भरोसा जगाया. चार साल के रिलेशनशिप के बाद टीना और अनिल ने 1991 में शादी कर ली. इस तरह टीना मुनीम से टीना अंबानी बन गईं.

अंबानी परिवार की बहु बनने के बाद टीना ने फिर कभी बॉलीवुड की तरफ मुड़कर नहीं देखा.

Tina and Mukesh Ambani's love(Pic: itsourtree.com)

संजय दत्त टीना का पहला प्यार थे. वह पहली बार टीना के साथ सीरियस थे, लेकिन नशे की बुरी लत ने उनसे टीना का साथ छीन लिया. टीना को संजय दत्त के प्यार की एक झलक जल्दी ही संजय की बॉयोग्राफिक फिल्म 'संजू' में दिखाई देने वाली है.

Web Title: Sanjay Dutt had humiliated Tina Munim, Hindi Article

Feature Image Credit: bollywoodshaadis