जिंदगी का हर दिन कुछ न कुछ ऐसी याद दे जाता है जो इंसान द्वारा भुलाए नहीं भूलती!

आज 25 फ़रवरी के दिन घटित हुई महत्वपूर्ण घटनाओं को हम इसी नजरिये से जानने की कोशिश करेंगे. आइये चलते हैं इतिहास के सफ़र पर–

अमेरिका में हुई थी ‘पहली कैबिनेट मीटिंग’

बात जब दुनिया के शक्तिशाली देशों की जाती है तो संभवत: अमेरिका का नाम ज़ुबां पर खुद ब खुद आ जाता है लेकिन सच्चाई ये है कि अमेरिका एक दिन में दुनिया का शक्तिशाली देश नहीं बना. अमेरिकी इतिहास के कई महान लोगों ने इसे अपनी मेहनत और क़ाबिलियत से शक्तिशाली बनाया है.

25 फरवरी 1793 का दिन अमेरिका के लिए काफी महत्वपूर्ण है. भले ही आज अमेरिकी सरकार के राजनेता देश के किसी भी हिस्से में मीटिंग करें, वह सुर्खियों में आ जाती है.

अमेरिका के प्रथम राष्ट्रपति जॉर्ज वॉशिंगटन के नेतृत्व में अमेरिकी कैबिनेट की पहली मीटिंग आयोजित की गई थी. सबसे रोचक बात यह है कि यह मीटिंग किसी सदन या अमेरिका के सरकारी संस्थान में नहीं बल्कि वॉशिंगटन के घर पर हुई थी.

हैरानी की बात यह है कि अमेरिका के इतिहास की पहली कैबिनेट मीटिंग में महज़ चार कैबिनेट मंत्री थे.

First Cabinet Meeting of President George Washington. (Pic: gettyimages)

इयान बॉथम ने लगाया ‘पहला टेस्ट शतक’

मौजूदा समय में क्रिकेट की दीवानगी लोगों के सिर चढ़कर बोल रही है. क्रिकेट के टी-20 फॉर्मेट आने के बाद से प्रशंसकों का खुमार और तेज़ हो गया है. वैसे इंग्लैंड को क्रिकेट का जनक कहा जाता है, लेकिन आज तक इंग्लैंड क्रिकेट टीम दुनिया को क्रिकेट देने के बावजूद वर्ल्ड कप नहीं जीत पाई.

वहीं जब बात क्रिकेट में बड़े रिकाॅर्डस की होती है तो इसमें इंग्लैंड के क्रिकेटरों का नाम ज़रूर आता है. ऐसे ही एक क्रिकेटर हैं इयान बॉथम.

मौजूदा दौर में कमेंटरी कर लोगों का मनोरंजन करने वाले इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर इयान बॉथम ने आज ही के दिन पहला टेस्ट शतक लगाया था. 25 फरवरी 1978 को खेले गए एक टेस्ट मैच में उन्होंने न्यूज़ीलैंड टीम के खिलाफ अपना पहला शतक लगाया. उन्होंने इस दिन इंग्लैंड के लिए 103 रन की मैराथन पारी खेली थी जो यादगार रही.

Ian Botham playing against Pakistan. (Pic: thecricketmonthly)

हिटलर को मिली ‘जर्मन नागरिकता’

बात जब इतिहास की होती है तो सुनहरी यादों के बीच कई कड़वें अनुभव भी पन्नों में दर्ज हो जाते है. हिटलर दुनिया भर में अपनी क्रूरता और जुल्म के लिए मशहूर रहा है. जब लोग आपस में जर्मन देश की बात करते हैं तो हिटलर के नाम पर भी बहस होने लगती है.

इस बहस का मुख्य कारण भी यही होता है कि हिटलर जर्मन नागरिक था. जानकर हैरानी होगी कि हिटलर का जन्म ऑस्ट्रिया में हुआ था. वह बेहद कम उम्र में अपने परिवार के साथ साल 1913 में जर्मनी आ गया था. उस दौरान एक व्यक्ति ने हिटलर को एक छोटे ओहदे पर सरकारी नौकरी भी दी थी.

जर्मनी में सरकारी नौकरी मिलते ही हिटलर को जर्मनी की नागरिकता भी मिल गई. 24 फरवरी 1932 को जर्मनी ने हिटलर को देश का नागरिक मानते हुए जर्मन नागरिकता दी थी.

Adolf Hitler in a Painting. (Pic: lelivrescolaire)

क्यूबा में कास्त्रो ब्रदर्स युग के अंत की घोषणा!

क्यूबा में फिदेल कास्त्रो को एक क्रांतिकारी और बेहतरीन नेता के रूप में जाना जाता है. फिदेल कास्त्रो के राजनीति से सन्यास के बाद उनके भाई राउल कास्त्रो ने देश की बागडोर संभाली थी.

जानकारी के लिए बता दें कि कास्त्रो बंधु साल 1959 से क्यूबा देश की बागडोर संभाले हुए आ रहे थे. क्यूबा की बागडोर संभालने के दौरान कास्त्रो बंधुओं ने अमेरिका जैसे ताकतवर देश का डटकर सामना किया लेकिन कहते हैं न जिसे दुनिया में कोई नहीं हरा सकता उसे उम्र हरा देती है.

वहीं इनके साथ भी हुआ, 25 फरवरी का दिन क्यूबा वासियों के लिए बेहद मायूसी भरी खबर लेकर आया. इस दिन क्यूबा के राष्ट्रपति राउल कास्त्रो ने देश की राजनीति से अपने सन्यास की घोषणा कर दी.

25 फरवरी 2013 को उन्होंने मीडिया से मुखातिब होते हुए अधिकारिक तौर पर यह घोषणा कर दी कि वह अगले राष्ट्रपति के चुनाव में अपनी दावेदारी पेश नहीं करेंगे और राजनीति से सन्यास ले लेंगे.

Raul Castro. (Pic: lelivrescolaire)

बोको हराम ने स्कूली बच्चों को जिंदा जलाया!

आतंकवाद का कोई मज़हब नहीं होता बल्कि आतंकवाद खुद एक मज़हब बन चुका है.

आज का दिन नाइजीरिया के लोगों के लिए क़हर बनकर टूटा था. नाइजीरिया में काफी सालों से सक्रिय बोको हराम ने स्कूल में आग लगाकर वहां पढ़ रहे 29 स्कूली बच्चों को मौत की नींद सुला दिया था.

नाइजीरिया के बामा में स्थित एक स्कूल में बोको हराम से जुड़े आतंकवादियों ने इस दर्दनाक घटना को अंजाम दिया था. स्कूल को आग के हवाले करने से पहले क्रूर आतंकियों ने लड़कियों और अन्य महिला टीचर्स को वहां से भगा दिया था.

इसके बाद उन्होंने कई क्लास रूम का दरवाज़ा बाहर से बंद कर स्कूल को आग के हवाले झोंक दिया. कहा जाता है कि आग से बचकर भागने वाले कई स्कूली बच्चों को आतंकियों ने गोलियों से भून दिया था. बेहद गरीब मुल्क माने जाने वाले नाइजीरिया में हुई इस दर्दनाक घटना से पूरी दुनिया में तहलका मच गया था.

Militants Group Boko Haram burned a College. (Pic: The Japan Times)

तो ये थीं 25 फरवरी से जुड़ी कुछ खास जानकारियां!

अगर आप भी इस दिन से जुड़ा कोई विशेष और ऐतिहासिक किस्सा जानते हैं तो कृपया नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं.

Web Title: Important Historical Events of 25th February, Hindi Article

Featured Image Credit: interaksyon