साल, जिंदगी और सिनेमा में ज्यादा कुछ फर्क नहीं है. ये सब एक दिन बीत ही जाता है. बस रह जाती हैं, तो उनसे जुड़ी यादें…

फिर चाहे वह खट्ठी हो या मीट्ठी!

बॉलीवुड में 2017 भी ऐसी यादों का गवाह बना. जो गुजर गए, उस में हिंदी सिनेमा के ओमपुरी, शशि कपूर, बिनोद खन्ना आदि बड़े अभिनेता शामिल रहे. ओमपुरी आरंभ जनवरी 2017 में तो शशि कपूर दिसंबर जाते-जाते दुनिया को अलविदा कह गए.

हालांकि, हिंदी सिनेमा ने केवल गम ही नहीं दिए. इन जाने वालों के साथ-साथ बॉलीवुड में कुछ विवाद के साथ कई सुनहरी यादें भी दीं. ऐसे में अब यह साल चला जाएगा, लेकिन यादें तो यूं ही रहेंगी, जो गीत-संगीत बनकर गूंजती रहेगीं.

इसलिए आईये इन यादों को समटने की एक कोशिश करते हैं–

घर का डोरबेल बजता रहा, लेकिन…

06 जनवरी, 2017 ओमपुरी दुनिया को अलविदा कह गए. उस दिन सुबह इनका ड्राइवर आया और घंटी बजाता रहा. पड़ोसियों ने भी कितनी बार दरवाजे की घंटी बजाई, लेकिन ओमपुरी दरवाजा नहीं खोल पाए. बाद में किसी प्रकार घर में घुसकर देखा गया तो हिंदी सिनेमा का चमकता सितारा फर्श पर पड़ा था.

मेडिकल रिपोर्ट से पता चला कि दिल का दौरा पड़ने से मौत हुई है. इस खबर को सुनकर हर किसी को झटका-सा लगा. सब हैरान परेशान थे कि 66साल का उनका दुलारा अलविदा यूं उनकी आंखों को नम करके चल गया. ओमपुरी को हम हर प्रकार के रोल में देख चुके हैं. ‘अर्ध-सत्य’ से लेकर ‘डर्टी पॉलिटिक्स’ तक इस शख्श ने अपने अभिनय का लोहा मनवाया.

Om Puri (Pic: starsunfolded)

कई अभिनेताओं की ‘मां’ की मौत!

हिंदी सिनेमा में मां के रोल की बात करते हैं, तो कौन याद आती हैं?

खैर, आपके पास कई विकल्प हो सकते हैं, किन्तु इसमें रीमा लागू का नाम तो निश्चित ही आता होगा. ज्यादातर फिल्मों में वह मां के किरदार में दिखीं.

तस्वीर अभी भी धुंधली हो तो दिलवाले फिल्म का गाना ‘जीता था, जिसके लिए, जिसके लिए मरता था…सुन लीजिए!  ऐसा इसलिए क्योंकि शायद आपको इस फिल्म में मां को रोल करने वाली रीमा लागु याद आ जाएं.

अफसोस की अब हमारे लिए वह बस एक याद बनकर रह गई हैं. 18 मई, 2017 को 58 बरस की उम्र में वह अपने कई चाहने वालों को अनाथ कर गईं. बीमारी के कारण उन्होंने अस्पताल में दम तोड़ दिया.

Reema Lagoo (Pic: aajkafunda)

कलाकार, जिसकी फोटो देख रोए लोग

मौत पर कौन नही रोता है, लेकिन इस अभिनेता की फोटो जब सामने आई, तो लोग एक पल के लिए पहचान ना पाए. किसी ने पहचाना भी तो कहा कि, फोटोशॉप का कमाल है.

काश! फोटोशॉप का कमाल होता.

मगर सच जो था सबके सामने था. 141 हिंदी फिल्मों का हीरो, जिसने जवानी से लेकर ढलती उमर तक कईं हिट फिल्में की. वह विनोद खन्ना 70 साल की उम्र में अस्पताल में आखिरी सांस लेते हुए भगवान को प्यारे हो गए. कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी के कारण इनकी हालत खराब हो चुकी थी. इसी के चलते आखिरकार 28 अप्रैल, 2017 को उन्होंने हमेशा के लिए अपनी आंखें बंद कर लीं.

उन्होंने न केवल पर्दे पर, बल्कि राजनीति में भी अलग पहचान बनाई.

Vinod Khanna (Pic: prokerala)

आशिक मिजाज हीरो का जाना

हिंदी सिनेमा में रोमांस-प्यार बहुत देखने को मिलता है. इस प्यार-रोमांस को पर्दे पर लाने वालों में शशि कपूर का नाम प्रमुखता से लिया जाता है. उनको लोग कितना पसंद करते थे, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि जब उनकी मौत की खबर लोगों को मिली, तो सभी की आंखें नम हो गईं.

कहते हैं कि केवल पर्दे पर ही नहीं, बल्कि असल जिंदगी में भी शशि साहेब आशिक मिजाज थे. अपनी प्रेमिका जेनिफर से शादी करना इसका बड़ा सबूत है. 04 दिसंबर, 2017 मतलब को 79 साल की उम्र में लंबी बीमारी के चलते उनकी मौत हुई.

Shashi Kapoor (Pic: easterneye)

सुपरहीरोज की फ्लॉप फिल्में

यादों में इन्हें भी समेटा जाना चाहिए!

सलमान खान के नामभर से फिल्म बॉक्स ऑफिस पर छा जाती है, किन्तु, 2017 में इनकी फिल्म ‘ट्यूबलाइट’ कमाल ना दिखा सकी. सोशल मीडिया पर लोगों ने इसकी जमकर खिंचाई की.

वहीं कॉमेडी के सुपरस्टार कपिल शर्मा की फिल्म ‘फिरंगी’ कुछ इस तरह पिटी कि उनके फिल्मी करियर तक पर सवाल उठने लगे. उनको इस फिल्म से बहुत उम्मीद थी, लेकिन लोगों ने उन्हें सीरियस मूवी बनाने की सजा दे डाली.

Salman Khan And Kapil Sharma (Pic: indianexpress/rediff)

‘न्यूटन’ ने जीता दिल

‘न्यूटन’ फिल्म ने खूब वाह-वाही बटोरी. सबसे खास बात है कि इस फिल्म को ऑफिशियली ऑस्कर के लिए नोमिनेट किया गया. एक तरफ देश में ईवीएम हैक पर सवाल उठते रहे और उसी बीच ‘न्यूटन’ बाजी मार ली.

राजकुमार राव के अलावा ‘न्यूटन’ में पंकज त्रिपाठी की कलाकारी ने अलग छाप छोड़ी.

इनका गृहजिला गोपालगंज, बिहार है. इतने छोटे शहर के कलाकार को पर्दे पर देखना और इसके बाद फिल्म का ऑस्कर के लिए जाना, इस शहर के लिए तो गर्व की बात है.

Rajkummar Rao And Pankaj Tripathi (Pic: commons)

एक पत्रकार की बवाल फिल्म

वरिष्ठ पत्रकार अविनाश दास के सालों की मेहनत ‘अनारकली ऑफ आरा’ में रंग भर दी. अविनाश दास की फिल्म की सराहना मीडिया से लेकर समीक्षकों ने की.

स्वरा भास्कर का ‘एक नाचने वाली बजाना भी जानती है,’ इस डॉयलॉग ने महिलाओं का दिल जीत लिया.

जागरण फिल्म फेस्टिवल से लेकर तमाम जगहों पर यह फिल्म खूब चली.

Avinash Das (Pic: yashodharaa)

… और अब ‘पैडमेन’

खिलाड़ी नंबर-1 अक्षय कुमार अपने स्टंट, फिर कॉमेडी के साथ फिल्म में जगह बनाए, लेकिन आगे चलकर ‘सैनिक’ बनने का जुनून सवार हो गया. उन्होंने एक के बाद एक धकाधक फिल्में बनाई.

‘मोदी सरकार’ के ‘स्वच्छता अभियान’ से प्रेरित होकर, या यूं कहें कि सामाजिक जिम्मेदारी समझकर ‘टॉयलेट-एक प्रेम कथा’ के बाद वह महिलाओं के लिए ‘पैडमेन’ बन गए.

हालाँकि, यह फिल्म अगले साल रिलीज होगी.

Akshay Kumar (Pic: mid-day)

विवाद जो नए साल तक चलेगा

संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावती’ को सेंसर बोर्ड ने भी करीब-करीब सिग्नल दे दिया है, लेकिन इससे विवाद का हल खत्म नही हुआ है. संभावना है कि नए साल में फिल्म पर्दे पर आ जाएगी.

बावजूद इसके सवाल वहीं का वहीं है कि क्या इससे जन्मा विवाद खत्म हो जाएगा!

इसी कड़ी में प्रकाश झा के निर्देशन में बनी फिल्म ‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्का’ विवादों में रही. शुरु में लगा कि लोग इसको चलने नही देंगे, लेकिन बाद में पिक्चर पर्दे पर उतरी तो हिट हो गई.

बाद में फिल्म की सराहना होती गई और विवाद मिटता चला गया.

Padmavati (Pic: indiawest)

दो अभिनेत्रियां ले गए क्रिकेटर

इस साल दो अभिनेत्रियों ने, दो महान क्रिकेटरों को जीवनसाथी के तौर पर चुना. अनुष्का शर्मा हमेशा के लिए विराट कोहली की हो गयीं तो सागरिका घाटगे ने जहीर खान को अपना जीवन साथी बना लिया.

कुल मिलाकर इस साल हमारी फिल्म जगत ने अलग-अलग विषयों पर फिल्म बनाई. साथ ही हम ऑस्कर की लिस्ट में खड़े हुए. विवादों से नाता चला तो, अच्छी फिल्में भी देखने को मिलीं.

Virat kohli And Anushka Sharma, Zaheer Khan And Sagarika Ghatge (Pic: indiatoday/sify)

ये साल भर में घटी कुछ यादें थी जोकि बीते साल को आसानी से दिलो-दिमाग से निकलने नही देगी.

रही बात साल की तो वह एक-एक करके जाता रहेगा.

आपकी बॉलीवुड से जुड़ी 2017 की कोई ख़ास याद हो तो कमेन्ट बॉक्स में अवश्य शेयर करें.

Web Title: Journey of Bollywood in 2017, Hindi Article

Feature Image Credit: filmymantra/tribune/ndtv