दाऊद इब्राहिम का नाम काफी बदनाम है!

गांव-गली के बच्चों से भी पूछिए तो इस रियल डॉन का नाम बता देता है. फ़िल्मों व खबरों ने तो दाऊद इब्राहिम को जुबानी करा दिया है. खासकर भारत में मुंबई बम ब्लास्ट से लेकर तमाम बड़े संगीन अपराधों में दाऊद को आरोपी माना जाता है. यही कारण है कि वह भारत से फरार है और पुलिस को उसकी तलाश है.

कहते हैं कि दाऊद के नाम से पूरी दुनिया डरती है, लेकिन यह पूरी तरह सही नहीं है!

कई ऐसे नाम हैं, जिनके लिए दाऊद एक आम डॉन भर है. वह उसकी आंखों में आंखें डालकर बात करने का दम भर ही नहीं रखते, बल्कि मौके मिले तो हमेशा के लिए उसकी कहानी खत्म कर देने का जज्बा भी रखते हैं. सपना दीदी के नाम से मशहूर अशरफ खान नामक महिला ऐसा ही एक नाम रही हैं.

कहते हैं कि वह एक आम महिला हुआ करती थी, किन्तु बाद में वक्त का पहिया कुछ इस तरह घूमा कि उन्होंने दाऊद को मारने का न केवल प्लान बनाया, बल्कि घर-बार छोड़ कर आत्मरक्षा के गुर सीखने के साथ-साथ बंदूक से नाता जोड़ लिया. ऐसे में सवाल तो कौंधता ही है कि एक आम महिला यूं अचानक इतनी खूंखार कैसे हो गई कि क्राइम की दुनिया की मजबूत किरदार बन गई.

आईये इसका जवाब ढूंढ़ने की कोशिश करते हैं–

पति कालिया ने बनाया ‘सपना दीदी’

जिस तरह मुंबई माफिया जगत में भाईजान बनाने का चलन है. ठीक वैसा ही समझ लिजिए कि ‘लेडी डॉन’ को दीदी की उपाधि दी जाती है. मतलब कि जो महिला लोहा लेने के लिए आगे आती है, उसे सम्मान से लोग दीदी कहकर बुलाने लगते हैं. हालांकि, सपना दीदी यानी अशरफ खान की कहानी थोड़ी सी अलग है.

अशरफ खान शुरुआत में एक सीधी-साधी लड़की थीं. उम्र के साथ वह अन्य लड़कियों की तरह शादी के बंधन में बंधीं और घर के कामकाज में खुद को व्यस्त कर लिया. उनके पति का नाम महमूद कालिया था, जोकि दाऊद के गैंग का सदस्य था. वहीं दूसरी शादी के रूप में उन्होंने सब-इंस्पेक्टर एन शेख का हाथ थामा था.

कहते हैं कि उसी ने अशरफ खान को सपना दीदी का नाम दिया था.असल में वह नहीं चाहता था कि किसी को पता चले कि अशरफ खान शादीशुदा है. इससे उसका दाउद के साथ कनेक्शन दुनिया के सामने उजागर हो सकता था. वैसे कई मीडिया खबरों में अशरफ खान को राहीमा नाम से भी लिखा गया.

ऐसे में कन्फ्यूज होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि अशरफ खान, राहिमा खान या सपना दीदी एक ही महिला के नाम रहे हैं.

Lady Don Sapna Didi (Representative Pic: Pinterest)

इसलिए खाई दाउद को मारने की ‘कमस’

इस तरह अशरफ खान, सपना दीदी बनकर जिन्दगी के सफर में आगे बढ़ चली. सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था. इसी बीच एक दिन उन्हें अपने पति महमूद कालिया की हत्या की खबर मिली. कहते हैं कि इसके पीछे दाऊद का हाथ था, जिसका अभास कालिया को पहले ही हो चुका था. असल में उसने दाऊद का एक काम करने से इंकार कर दिया था, इस कारण उसे डर था कि दाऊद उसे छोड़ेगा नहीं.

शायद तभी उसने दुबई जाने से पहले अपनी पत्नी सपना दीदी से कहा था कि दुबई कि यह यात्रा उसके जीवन की आखिरी यात्रा है. हो सकता है कि वह लौटकर न आ सके. इस पर सपना दीदी ने उसको रोकते हुए कहा कि आप ऐसा क्यों कह रहे है… आप जरूर लौटेगे. इस पर वह भावुक हुआ और तुरंत दुबई के लिए रवाना हो गया.

हालांकि, इस बात की पुष्टि नहीं हो सकी कि कलिया को दाउद ने ही मरवाया था, क्योंकि बाद में  ऐसी खबरों चली कि वह पुलिस एनकाउंटर में मारा गया था. हालांकि, सपना दीदी यह मानने के लिए तैयार नहीं थी. वह अपने पति की मौत के लिए दाउद को ही जिम्मेदार मानती रहीं. यही वजह रही कि उन्होंने उसको मारने की कसम खा ली और बंदूक थाम ली.

Daud Ibrahim (Pic:DNA )

…और शुरू किया खुद को तैयार करना!

सपना दीदी ने दाऊद को मारने की कसम तो खा ली थी, लेकिन यह आसान नहीं था. वह जानती थी कि इसके लिए उन्हें सबसे पहले खुद को मजबूत होने की जरूरत है, इसलिए उन्होंने कड़ी ट्रेनिंग लेनी शुरु कर दी. इसमें आत्मरक्षा और बंदूक चलाने जैसे बड़े कौशल पर उन्होंने खुद को झोंक दिया.

उनकी इस ट्रेनिंग में मददगार बने ‘उस्मान’, जिन्होंने उन्हें हुसैन उस्तरा नामक व्यक्ति के पास जाने की नसीहत दी. उस्मान का कहना था कि हुसैन उन्हें अच्छी ट्रेनिंग देगा. साथ ही वह दाऊद को मारने में उसकी मदद भी करेगा. असल में हुसैन भी दाऊद से बदला लेना चाहता था. उसने भी उसके जुल्म झेले थे. फिर क्या था सपना दीदी हुसैन से जाकर मिली और सारी कहानी सुनाई. हुसैन ने उनकी मदद करने की हामी भर दी.

इस तरह शुरु हो गई ‘सपना दीदी’ की ट्रेनिंग, जोकि दो महीने तक लगातार चली. इस दौरान सपना दीदी को बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ा. कई बार तो गंभीर रुप से चोटिल तक हुईं, लेकिन दाऊद को मारने के सपने ने उन्हें हमेशा उठकर खड़े होने के लिए प्रेरित किया. जल्द ही वह पूरी तरह से तैयार हो गईं. यहां तक कि उनका अंदाज और लिबास तक बदल गया. वह अब जींस, टी-शर्ट में सरेआम आने जाने लगीं.

Lady Don Sapna Didi’s Training (Representative Pic: OpIndia)

महज तीन हफ्तों में ही सुर्खियां बटोरीं

जल्द ही उन्होंने अपना जलवा दिखाना शुरु कर दिया. महज तीन हफ्तों में ही उन्होंने अपने दम पर दाऊद के कई अड्डों को बंद करवा दिया था. इसके बाद तो वह सुर्खियों में आ गईं. हालांकि, किसी को यह खबर नहीं हो पाई थी कि उनकी लास्ट डेस्टिनेशन दाऊद की हत्या थी. इसका फायदा उठाकर वह चुपचाप दाऊद को मारने का मौका तलाशने लगी.

जल्द ही उन्हें दाउद के दुबई के उस ठिकाने की खबर मिल गई, जहां वह उन दिनों ठहरा हुआ था. सपना दीदी इस मौके को अपने हाथ से निकलने देना नहीं चाहती थी, इसलिए देर न करते हुए वह भारत छोड़कर दुबई पहुंच गईं.

हालांकि, वह अपने मकसद में कामयाब नहीं हो सकी. उनके प्लान की खबर किसी तरह से दाऊद तक पहुंच गई. उसने तुरंत अपने नेटवर्क को एक्टिव करते हुए सपना दीदी का खेल खत्म करने का फरमान सुना दिया. अपने आका के आदेश पर उसके आदमी जल्द ही सपना दीदी के पास पहुंचने में कामयाब रहे. जब तक सपना दीदी को इसकी भनक लगती वह चारों तऱप से घेर ली गईं और उन्हें मौत दे दी गई.

किताब से लेकर फिल्म तक चर्चा

सपना दीदी की मौत के बाद क्राइम की दुनिया में सपना दीदी एक नया नाम उभरकर आया. जिस पर बड़ी खबरें तो बनीं, लेकिन लेखक एस हुसैन जैदी की किताब ‘माफिया क्वींस ऑफ मुंबई’ ने सपना दीदी के चर्चा को बढ़ा दिया. इस किताब में उनकी आम जिंदगी से लेकर क्राइम में एंट्री तक का बेहतरीन ढंग से जिक्र किया गया है.

इस किताब की चर्चा इतनी बढ़ी कि बॉलीवुड ने सपना दीदी पर फ़िल्म बनाने की ठान ली. इस किताब की राइट को फ़िल्म निर्देशक विशाल ने खरीद ली है और जल्द ही इस पर फ़िल्म आने वाली है. पद्मावती के बाद दीपिका की ये दूसरी धमाकेदार फ़िल्म होगी. सपना दीदी के रोल में दीपिका पादुकोण ‘लेडी डॉन’ के रोल में दिखेगीं.

Deepika Padukone With Gun (Pic: biscoot)

क्राइम जगत में दाऊद इब्राहिम की चर्चा है, लेकिन सपना दीदी जोकि पति की मौत का बदला लेने निकली और दो माह में ही क्राइम जगत में चर्चित हो गई.

वाकई में एक महिला का खूंखार होना चकित करता है, लेकिन हालात के आगे हर कोई विवश हो जाता है. सपना दीदी यानी ‘अशरफ खान’ का किरदार इस बात को प्रमाणित करता है.

क्या कहते हो आप ‘सपना दीदी’ के बारे में?

Web Title: Lady Don Sapna Didi, Hindi Article

Feature Image Credit: HighsnobietyFPJ/ savvy.co.in