पाक की पहली हरकत : ‘सीमापार से आतंकियों की गोलाबारी

भारत का बयान : “पाक की इस हरकत का देंगे करारा जवाब”

हम पाक की इस हरकत का करारा जबाब देंगे. ऐसा कहकर उन्होंने मंच सजाया. भीड़ जुटाई. लाउडस्पीकर मंगाए और करारी आवाज़ वाले नेता को बुलाया गया. उसने दो घण्टे माइक पर करारा जवाब दिया. कुछ इस तरह…

‘भाइयों बहनों, हम आज पाक को करारा जवाब देने के लिए यहाँ उपस्थित हुए हैं. हजारों की भीड़ देखकर यह लग रहा है कि आज यहाँ से गूंजी आवाज लाहौर तक जरूर पहुंचेगी. आप लोग दोनों हाथ उठा कर बोलिये -भारत माता की जय!

सभी हाथ उठा कर बोले -भारत माता की जय,

वन्दे मातरम’

ऐसे ही आपके हाथ उठते रहेंगे तो आतंकियों का हैंड्सअप ज़रूर होगा’

जनता ने खूब तालियां बजाईं. उनका जवाब चालू था’ मैं सवाल करता हूँ पाकिस्तान से कि अगर वह इतना पाक है तो जो गोलियां हमारे जवानों के सीने में पैबस्त हुईं उस पर मेड इन कराची क्यों लिखा था ?” आपकी बारूद के रैपर में यह् क्यों लिखा था कि मार्केटेड बाय इस्लामाबाद बम कार्पोरेशन” मैं सवाल पूछता हूँ कि जो जूता बरामद हुआ है वह आईएसआई प्रमाणित क्यों था’? इस तरह उन्होंने करारे जवाब की जगह सवाल दाग दिये. सवाल सुन के पाक इतना आहत हुआ कि उधर से गोले दाग दिये. तभी लखनऊ के एक शायर से लगे हाथ शेर दाग दिया…
‘इस से बेहतर जवाब क्या होगा खो गया वो  मेरे सवालों में

Pakistan Terrorism and Indian Government Hard Word Criticism, Kadi Ninda (Pic: Ganesh Joshi)

पाक की दूसरी करतूत : चौकी पर हमला सात सैनिक घायल

भारत का बयान : अब करेंगे कठोर कार्यवाही

(समझ नहीं आता कि इनके पास कितने तरह की कार्यवाहियां हैं? सवाल उठता है कि अभी तक क्या मुलायम कार्यवाही कर रहे थे. होले होले आहिस्ता आहिस्ता ट्रिगर दबा रहे थे. सहला सहला कर नश्तर चुभो रहे थे? या फिर जॉन एलिया के नाजुक शेर सुना कर भयभीत कर रहे थे. खैर उन्ही के लहज़े में सुनिये)

‘भाइयों, बहनों, आप बताइए इस नापाक हरकत के बाद कठोर कार्यवाही होनी चाहिए कि नहीं होनी चाहिए?

जनता -होनी चाहिये

मितरों, आप ही बताइए कश्मीर भारत की जान है कि नहीं?

जनता- -हाँ, है

कश्मीर भारत की शान है कि नहीं

जनता- -हाँ है

हम तो पाक से बस यही कहना चाहते हैं

‘दूध मांगोगे खीर देंगे… कश्मीर मांगोगे चीर देंगे

जनता ने जोरदार तालियाँ बजायीं. तभी उनके पीए ने कान में बताया कि सात सैनिकों में से एक के सीने में लगी गोली तो निकल गयी लेकिन जवान शहीद हो गया. यह खबर सुन उनकी कार्यवाही और कठोर हो गयी. उन्होंने कुछ और कठोर शेर उछाल फेंके

‘हम अहले वेतन खाके वतन दे नहीं सकते औरों को हम ये गंगे जमन दे नहीं सकते

कश्मीर बड़ी दूर है ये और बात है हम पाक के मुर्दों को क़फ़न दे नहीं सकते.’

जनता ने खड़े होकर तालियाँ बजायीं. कार्यवाही जारी थी

‘क्या हम जीते जी कश्मीर पाक के हवाले कर देंगे?

जनता: नहीं करेंगे
(तभी खबर आई की घायल जवानों में से एक और शहीद हो गया )

उनकी कार्यवाही और कठोर हो गयी थी’हम घुस कर मारेंगे. यह वादा करते हैं कि इन जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी.’ तभी अकाशवाणी हुई- ‘आपने यह वाक्य पैंसठ हजारवीं बार बोला है सर. यह आवाज सीमा की सुरक्षा में तैनात सबसे पहले शहीद की आवाज़ थी.’

यह सुनकर उनकी कार्यवाही और कठोर हो गयी. जो कुछ हुआ अरविन्द असर के इस शेर की मार्फत-

‘फिर उसने देश भक्ति का जज़्बा दिखा दिया.
इक बार फिर से पाक का झण्डा जला दिया’

Pakistan Terrorism and Indian Government Hard Word Criticism, Old Government (Pic: Twitter)

पाक की तीसरी करतूत : जवानों के कैम्प पर हमला

भारत का बयान : हम इस शर्मनाक कृत्य की कड़े शब्दों में निंदा करते हैं

यह भी समझ नहीं आता कि शब्द आखिर कड़े कैसे हो सकते हैं. ये शब्द क्या लोहे की कलम से लिखे जाते हैं. जिन शब्दों का बयान में प्रयोग है क्या वो कड़े हैं? इन शब्दों को लिखने के लिए क्या इस्पात के कागजों का प्रयोग करना होता है. या फिर जिस मुंह से निकलते हैं वह एल्युमिनियम का बना होता है. शब्द तो ब्रम्ह होते हैं. ये कड़े शब्द शायद महाकाल के डमरू से निकले होंगे. खैर, आज वो निंदा करने वाले थे.

‘भाइयों बहनों, यह पाक की बेहद शर्मनाक घटना है. हम कड़े शब्दों में इसकी निंदा करते हैं. यह हमला पाकिस्तान की हताशा का परिचायक है. इस हरकत से उसकी कायरता पता चल गयी है. अगर इसी तरह की कायरता का परिचय देता रहा तो एक दिन अमेरिका उसे आतंकवादी देश घोषित कर देगा. फिर वह बर्बाद हो जाएगा. अब हम और बर्दास्त नहीं करने वाले… इसलिए पूरे देश को निंदा करनी चाहिए.

इतनी निंदा हो जाए की आतंकी शर्म से ही मर जाए. फिर आकाशवाणी हुई’फिर काहे को बनवा ली इतनी मिसाइलें, पैसा और समय दोनों नष्ट हो गए’… यह मिसाइल मैन अब्दुल कलाम की आत्मा थी.

Pakistan Terrorism and Indian Government Hard Word Criticism (Pic: Medium)

पाक की चौथी करतूत : भारतीय जवान का कटा सिर भेजा आतंकियो ने

भारत का बयान : अब और बर्दास्त नहीं

हम पाक को मुंहतोड़ जवाब देंगे (आपके बस में इतना ही है साब, वो सिर काटें और आप उनका मुंह तोड़ जवाब दें… कहावत ही पलट के रख दी आपने- आप पत्थर का जवाब ईंट से देने लगे.)

खैर उनका बयान सुनिये… ‘मेरे प्यारे देशवासियों, यह दुखद घड़ी है. हम अब और बर्दास्त नहीं करेंगे. इस शहीद ने यह साबित कर दिया है यह भारतीय जवान का सिर है. कट सकता है लेकिन झुक नहीं सकता..

जनता ने भारत माता की जयघोष की

उनका मुंहतोड़ जबाब चालू था-‘ हमें गर्व है इस सैनिक पर जिसने तिरंगे न झुकने पाए इसलिए इसने अपना सर कटा दिया.

फिर आवाज गूंजी-‘ हाँ तिरंगा तो सिर्फ आपके मरने पर ही झुकता है. ‘यह उसी सैनिक की आत्मा थी.

(सुना है उन्होंने इस बार कतई बर्दास्त नहीं किया है, और शान्ति वार्ता की ओर कदम बढ़ा दिए हैं. पाक के प्रधानमंत्री के जन्मदिवस पर उनको खुश करने के लिए उपहारों की सूची बनाने में पूरा महकमा जी जान से जुट गया है)

Pakistan Terrorism and Indian Government Hard Word Criticism, Hindi Satire, O Pakistan (Pic: Kajal Kr.)

Web Title: Pakistan Terrorism and Indian Government Hard Word Criticism, Hindi Satire

Keywords: Terrorism, Pakistan, Modi Government, Bharat Sarakar, Soldiers, Kashmir Issue, Rajnath Singh Statement, Home Ministry, PMO, Satirical Hindi Article

 Featured image credit / Facebook open graph: IndianExpress / Team Roar