फीफा विश्व कप का खुमार इस समय लोगों के सिर चढ़कर बोल रहा है. यह विश्व की सबसे लोकप्रिय खेल प्रतियोगिताओं में से एक जो है. इस प्रतियोगिता में विश्व के एक से बड़े एक धुरंधर हिस्सा लेते हैं और अंत में कोई एक विश्व विजेता बनता है.

किन्तु, क्या आपको पता है कि ब्राजील इस खेल का बेताज बादशाह रहा है. ब्राजील विश्व की एक मात्र ऐसी फुटबाल टीम रही है, जिसने प्रत्येक फीफा विश्व कप में भाग लिया है. इसके साथ ही उसने सबसे अधिक बार इस प्रतियोगिता को जीता है.

तो आईए जानते हैं ब्राजील की सफलता का राज-

62 अंतर्राष्ट्रीय खिताबों पर कब्जा

द्वितीय विश्व युद्ध से पहले ब्राजील की फ़ुटबाल टीम का कोई ख़ास नाम नहीं था. यह तो पचास का दशक था, जब ब्राजील ने अपने प्रदर्शन से सबको अचंभित करना शुरू किया. यहां से ब्राजील ने एक रफ़्तार पकड़ी, जिसने फिर रुकने का नाम नहीं लिया.

ब्राजील ने अपना पहला विश्व कप खिताब 1958 में जीता. फाइनल में उसके विरूद्ध स्वीडेन की मज़बूत टीम थी. इस पूरे विश्व कप में ब्राजील के स्टार खिलाड़ी पेले ने बेजोड़ प्रदर्शन किया.

अगला विश्व कप 1962 में हुआ. इसे फिर से एक बार ब्राजील ने जीता.

लगातार दो विश्व कप जीतकर ब्राजील ने फुटबाल जगत में अपना दबदबा कायम कर लिया. इस समय ब्राजील की टीम के बारे में कहा जाने लगा कि यह अपनी मर्जी के अनुसार गोल करती है.

आगे 1970, 1994 और 2002 के विश्व कप भी ब्राजील ने अपने नाम किए. इस बीच रोनाल्डिन्हो, काका और रोनाल्डो जैसे प्रतिभावान खिलाड़ी ब्राजील की फ़ुटबाल टीम का हिस्सा थे.

पांच बार विश्वकप जीतने के अलावा अब तक ब्राजील ने 62 अंतर्राष्ट्रीय खिताब अपने नाम किए हैं.

इसके अलावा यह टीम फीफा विश्व कप में दो बार उपविजेता और इतनी ही बार तीसरे स्थान पर रही है. इसके साथ ही इस टीम ने चार बार फीफा फेडरेशन कप भी जीता है. वहीं, ओलंपिक में भी इसके नाम 1 स्वर्ण, 3 रजत और 2 कांस्य पदक दर्ज हैं.

ये सब चीजें मिलकर ब्राजील को फ़ुटबाल इतिहास की सबसे बेहतर टीम बनाती हैं.

Pele (Pic: The18)

भौगोलिक संरचना बनाती है मजबूत

अब आप सोच रहे होंगे कि ऐसा क्या है, जिसने ब्राजील को फुटबाल के क्षेत्र में इतना सफल बनाया. आखिर क्या कारण है कि किसी भी विश्व कप के शुरू होने से पहले ब्राजील लोगों की सबसे पसंदीदा टीम होती है.

असल में ब्राजील एक बहुत बड़ा देश है. इसकी जनसँख्या भी बहुत अधिक है. जितने लोग ब्रिटेन, फ़्रांस और जर्मनी में कुल मिलाकर रहते हैं, उतने अकेले ब्राजील में रहते हैं. यही कारण है कि यहां से बहुत अधिक मात्रा में फ़ुटबाल खिलाड़ी निकलते हैं.

ब्राजील एक ऐसा देश है, जो उष्णकटिबंधीय क्षेत्र के अंतर्गत आता है. इसने भी ब्राजील को फुटबाल में अपार सफलता प्रदान करने में काफी सहायता दी है. असल में उष्णकटिबंधीय क्षेत्र होने के कारण यहां घास न के बराबर उगती है.

इस कारण ज्यादातर ब्राजीली फुटबालरों को बचपन से ही खुरदरी जमीन पर खेलना पड़ता है. ऐसे खेलते-खेलते उनकी तकनीक बाकी देशों के खिलाड़ियों के मुकाबले अपने आप मज़बूत हो जाती है.

इसके अलावा ज्यदातर ब्राजीली लोग शहरों में रहते हैं. इन शहरों में जगह बहुत कम होती है. इतनी कम कि फुटबाल जैसे खेल को खेलना यहाँ टेढ़ी खीर से कम नहीं है. लेकिन फिर भी लोग खेलते हैं.

Street football gives players (Pic: aljazeera.)

खिलाड़ियों की एकाग्रता मूल मंत्र

जैसे हमारे यहाँ गली क्रिकेट खेला जाता है, वैसे ही ब्राजील में गली फुटबाल होता है.

इसका उन्हें बहुत फायदा होता है. जब गेंद ऊबड़-खाबड़ इंटों पर पड़ती है, तो अचानक से इधर-उधर भागती है. ऐसे में खेलने वालों की गेंद के प्रति प्रतिक्रिया अपने आप ही तेज हो जाती है.

वहीँ क्योंकि चारों तरफ पक्की जमीन होती है, इसलिए खेलने वालों को इस बात का ख़ास ख्याल रखना पड़ता है कि खेलते समय उन्हें चोट न लगे. इस कारण उनकी एकाग्रता भी मज़बूत हो जाती है.

वहीँ जगह भी बहुत कम होती है, इसलिए गेंद को अधिक समय तक अपने पास बनाए रखने के लिए बिजली सी फुर्ती चाहिए होती है. इसके अलावा ब्राजील में लगभग 5,000 वर्ग मील क्षेत्र में समुद्री तट हैं.

इन बीचों पर एक अच्छी-खासी जनसँख्या फुटबाल खेलती है. बीच पर फुटबाल खेलना बहुत मेहनत का काम है. एक तो बालू पर दौड़ने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है और दूसरा यहं गेंद उछलती नहीं है.

ऐसी परिस्थियों में फुटबाल खेलने के बाद जब ब्राजीली खिलाड़ी साफ़ और सुसंगत मैदानों पर फुटबाल खेलने के लिए उतरते हैं तो उन्हें किसी ख़ास मुश्किल का सामना नहीं करना पड़ता है.

Beech Football In Brazil (Pic: Soccer Coach)

गिरता जा रहा है ब्राजील का प्रदर्शन

बावजूद इसके पिछले कुछ वर्षों में देखा गया है कि ब्राजील की टीम अपने नाम के अनुसार प्रदर्शन नहीं कर पा रही है. इसके नामी खिलाड़ियों का प्रदर्शन लगातार गिरता जा रहा है. पिछले विश्व कप को ही ले लीजिए, कैसे सेमीफाइनल में ब्राजील के हाथों शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा था. जर्मनी ने यह मैच एक के मुकाबले सात गोलों से जीता था.

असल में समय के साथ फ़ुटबाल के खेल में नई तकनीकों का समावेश हुआ है.

जबकि ब्राजीली फुटबालर अभी भी पुरानी तकनीकों के साथ खेल रहे हैं. आज फ़ुटबाल में जब बाकी टीमें ज्यादा आक्रामक हुई हैं, तब ब्राजील की टीम अभी भी साम्बा तकनीक के साथ खेल रही है.

आज वक्त की जरूरत है कि ब्राजील खुद को नई तकनीक के साथ ढाले, किन्तु वह इसको नजरअंदाज करती दिख रही है. यही वजह है कि इसका खामियाजा उसे पिछले कुछ सालों में भुगतना पड़ा है.

उम्मीद है वर्तमान सीजन में उसने अपनी इस कमी पर काम किया होगा और वह एक एक विजेता की तरह खेलती दिखेगी.

David Luiz After Debacle Against Germany (Pic: The National)

नेमार, गैब्रिएल जैसे खिलाड़ी बढ़ाते है शान!

इस बार का विश्व कप रूस में हो रहा है. हर बार की तरह इस बार भी ब्राजील की टीम में एक से बढ़कर एक खिलाड़ी मौजूद हैं. ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि ब्राजील की टीम इस बार आशाओं के अनुरूप प्रदर्शन करके खिताब जीतेगी.

ब्राजील की टीम में इस बार नेमार जैसा प्रतिभावान खिलाड़ी मौजूद है. नेमार विश्व के सबसे महंगे खिलाड़ियों में से एक हैं. पिछले कुछ समय से वे बेहतरीन फॉर्म में चल रहे हैं.

नेमार के साथ टीम में गैब्रिएल जीसस भी मौजूद हैं. इनके बारे में कहा जाता है कि ये अपनी मर्जी से गोल करते हैं. इसके साथ ही वो मिडफील्ड में भी शानदार प्रदर्शन करते हैं. कहा जाता है कि इनके खेल के करोड़ों लोग दीवाने हैं.

वहीँ ब्राजीली टीम में फरनान्दिन्हों के रूप में मजबूत डिफेंडर भी मौजूद है. हालाँकि, पिछले कुछ समय में वे अपने रंग में नजर नहीं आए हैं. वर्ना उनकी तकनीक तो इतनी उन्नत है कि अच्छे-अच्छे खिलाड़ी भी उनको छका नहीं पाते हैं.

Gabriel Jesus (Pic: These Football Times)

तो ये था ब्राजील की टीम से जुड़े कुछ पहलू.

अगर आपके पास भी ऐसी ही कोई जानकारी है, तो नीचे दिए कमेंट बॉक्स में जरूर बताए.  

Web Title: How Brazil Becane The Most Successful Team In Fifa World Cup, Hindi Article

Feature Image Credit: FIFA