गिल्ली-डंडा, सांप सीढ़ी, लूडो कुछ ऐसे नाम हैं, जिनका जिक्र मात्र आने से हम या तो अपनी पुरानी यादों में लौट जाते हैं, या फिर हमें दादा-दादी के वो किस्से याद आ जाते हैं, जिनमें इनका जिक्र हुआ करता था. सच मानिये तो यह सिर्फ नाम नहीं हैं, बल्कि एक एहसास है, जो पल भर में हमें बचपन से मिला देता है. हम कहने लगते हैं कि वो दिन भी क्या दिन थे, जब हम गांव में इन खेलों का आनंद लिया करते थे. तो आईये ले चलते हैं आपको उन खेलों के पास जिन्हें कई सालों पहले आप अपने गांव के गलियारों में छोड़ आये थे:

पिठ्ठू गरम

इस खेल को खेलने के लिए सात चपटे पत्थर और एक गेंद की जरुरत होती है. इसमें पत्थरों को एक के ऊपर एक जमाया जाता है. इस खेल में दो टीमें भाग लेती हैं. एक टीम का खिलाड़ी पहले गेंद से पत्थरों को गिराता है और फिर उसकी टीम के सदस्यों को पिट्ठू गरम बोलते हुए उसे फिर से जमाना पड़ता है. इस बीच दूसरी टीम के ख़िलाड़ी गेंद को पीछे से मारते हैं. यदि वह गेंद पिट्ठू गरम बोलने से पहले लग गयी तो टीम बाहर.

कितने भी लोग इसे खेल सकते हैं पर दोनों टीमों में बराबर खिलाड़ी होने चाहिए. इस खेल का नाम स्थानीय जगहों के हिसाब से अलग-अलग मिलता है, इसलिए कंफ्यूज होने की बिलकुल जरुरत नहीं है.

Seven Stones Stack (Pic: blog.compassion.com)

रस्सी कूदना

वैसे तो सभी को पता है कि रस्सी वजन घटाने के लिए एक अच्छा व्यायाम है पर गांव में इसे दूसरे तरीके से खेल की तरह खेला जाता है. वहां मज़े लेकर इसे खेला जाता है. दो लड़कियां एक रस्सी को दोनों सिरों से पकड़ लेती हैं और उसे घुमाना शुरू करती हैं. तीसरी लड़की बीच में कूदती है. सबकी बारी आती है, जो सबसे ज्यादा बिना रुके कूदती है, वह जीतती है.

लंगड़ी टांग

यह खेल मुख्यत: लड़कियां खेलती हैं. हालांकि लड़के भी इसका मजा लेने से नहीं चूकते. इसको खेलने के लिए घर के आंगन, मैदान या कहीं और कई चाक या फिर ईंट के टुकड़े से खाने बनाये जाते हैं. फिर पत्थर को एक टांग पर खड़े रहकर सरकाना पड़ता है, वो भी बिना लाइन को छुए हुए. अंत में एक टांग पर खड़े रहकर इसे एक हाथ से बिना लाइन को छुए उठाना पड़ता है.

इस खेल को खेलने के लिए कम से कम दो खिलाड़ियों की जरुरत होती है. इस खेल को खेलने के कई अन्य तरीके भी हैं, जो जगह के हिसाब से अलग-अलग देखने को मिलते हैं.

गिल्ली डंडा

ग्रामीण क्षेत्रों में गिल्ली डंडा सबसे लोकप्रिय खेल है. इस खेल को खेलते समय अगर थोड़ी सी भी चूक हो जाये तो किसी की आंख को नुकसान हो सकता है. इस लिहाज से इस खेल को एक खतरनाक खेल भी माना जाता है. इस खेल में गिल्ली एक स्पिंडल के आकार की होती है और साथ में होता है एक छोटा सा डंडा. गिल्ली के एक सिरे को डंडे से मारा जाता और गिल्ली को जहां तक हो सके, फेंका जाता है. जो जितनी दूर तक फेंक सके, उसी के आधार पर स्कोर का निर्णय होता है. इस खेल के अपने-अपने स्थानीय नियम होते हैं.

Gulli Danda (Pic: VSF/youtube.com)

गुटके

इसे लड़कियां गोल-गोल छोटे-छोटे पत्थरों से खेलती हैं. दायें हाथ से गुटका उछाला जाता है और बायें हाथ को घर या कुत्ते के आकार में रखकर उनके नीचे से गुटके निकले जाते हैं. फिर सबको एक साथ एक हाथ से एक गुटका ऊपर उछालते हुए उठाना होता है. देखने में तो यह गेम बहुत आसान मालूम पड़ता है, पर असल में यह इतना आसान होता नहीं है. इसको खेलने में हाथों की अच्छी खासी कसरत हो जाती है. इस गेम का स्वरुप स्थानीय स्थानों के हिसाब से बदला भी नजर आता है.

छुपन-छुपाई

छुपन-छुपाई बच्चों का एक लोकप्रिय खेल है. इसे हाइड एंड सीक भी कहा जाता है. इस खेल में एक व्यक्ति को कुछ दूर तक जाकर 100 तक गिनती गिननी होती है, ताकि इस समय में खेलने वाले खिलाड़ियों को छिपने का समय मिल सके. गिनती पूरी करने के बाद सभी खिलाड़ियों को एक-एक करके ढूंढ़ना होता है और जो सबसे पहले पकड़ा जाता है, उसे फिर इस प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है.

कंचा

कंचा एक परम्परागत खेल है. गांव की गलियों में इसे आज भी बच्चे आसानी से खेलते हुए मिल जाते हैं. इस खेल में, कुछ मार्बल्स की गोलियां बच्चों के पास होती हैं. इसमें एक गोली से दूसरी गोली को निशाना लगाना होता है और निशाना लग गया तो वह गोली आपकी हो जाती है. इसके अलावा एक गड्ढा बनाकर उसमें कुछ दूरी से कंचे फेंके जाते हैं. जिसके कंचे सबसे ज्यादा गिनती में गड्ढे में जाते हैं वह जीतता है.

कुछ यूं समझ लीजिये कि यह शहर में खेले जाने वाले बिलियर्ड्स की तरह ही है. इस खेल को खेलने की कई और विधाएं भी हैं.

Top 11 Indian Childhood Games, Kancha (Pic: hvrsports.com)

पोसंपा

पोसंपा भई पोसंपा, लाल किले में क्या हुआ, सौ रूपए की घड़ी चुराई, अब तो जेल में जाना पड़ेगा, जेल की रोटी खानी पडे़गी. इस गीत से आपको कुछ याद आता है… मुझे स्कूल के वो दिन याद आते हैं, जिसमें हम स्कूल जाते ही बैग को क्लास में रखकर भागते थे पोसंपा खेलने. इसमें दो बच्चे अपने हाथों को जोड़कर एक चेन बना लेते थे और इसमें से अन्य साथियों को गुजरना पड़ता था.

यहां एक गीत गाया जाता था, पोसंपा भई पोसंपा…और तभी इस चेन को बंद कर दिया जाता था, यदि बच्चा इसी में रह गया और गाना खत्म हो गया, तो उसे आउट माना जाता था.

चोर-सिपाही

यह खेल बड़ा मजेदार होता है. इसमें दो टीमें खेलती हैं. एक पुलिस की भूमिका में होती है और दूसरी चोर की भूमिका में. यह खेल बिलकुल सच वाले चोर पुलिस की तरह होता है. इसमें पुलिस चोरों की तलाश में रहती है. एक-एक जब वह सभी को पकड़ने में सफल हो जाती है, तो गेम पलट जाता है मतलब चोर अब सिपाही बन जाते हैं और सिपाही चोर बन जाते हैं.

आंख-मिचौली

यह बहुत मजेदार गेम होता है. इसमें एक प्रतिभागी की आंखों पर पट्टी बांध दी जाती है और उसे दूसरे को पकड़ना होता है. पकड़े जाने पर दूसरे खिलाड़ी को इसी प्रक्रिया से गुजरना होता है. इस गेम को एक और तरीके से खेला जाता है. इस दूसरे तरीके में एक खिलाड़ी की आंखों को बंद कर दिया जाता है और बाकी खिलाड़ी उसके सिर पर एक-एक करके थपकी मारते हैं. सबसे पहले थपकी मारने वाले की पहचान हो जाने पर उसे आंखे बंद करनी होती है. मजे की बात तो यह है कि इस खेल में कितने भी लोग खेल सकते हैं.

सांप-सीढ़ी

यह भारत का एक बहुत ही लोकप्रिय खेल है. इस खेल को खेलने के लिए एक बोर्ड होता है, जिस पर 1 से 100 तक की गिनती लिखी होती है. साथ ही जगह-जगह सांप बैठे होते हैं और सीढ़ियां भी बनी होती हैं. इस खेल को पासे के माध्यम से खेला जाता है. पासा फेंकने पर जितने नम्बर आते हैं उतने कदम आगे बढ़ना होता है. इसमें जहां एक तरफ सीढ़ी मिलने पर सीधे ऊपर पहुंचने का मौका मिलता है तो वहीं दूसरी तरफ सांप के कांटने पर सीधे नीचे आना होता है.

98वें नम्बर पर बैठा सांप लोगों को बहुत डंसता है और एकदम नीचे पहुंचा देता है. इस खेल को खेलने के लिए कम से कम दो लोग तो चाहिए ही होते हैं.

Top 11 Indian Sap Sidi (Pic: androidadventuregames.xyz)

और भी न जाने कितने ऐसे खेल हैं, जो बस अब याद बनकर रह गये हैं. हम शहर जो आ गये हैं. हमें चाहिए कि हम अपने बच्चों को कम से कम गर्मियों की छुट्टियों में तो गांव की सैर पर ले ही जाएं, ताकि कम से कम बचे हुए कुछ एक पुराने खेलों का आनंद ले सकें. किसी शायर का एक शेर पढ़िए और इस गर्मी गांव जरुर जाइयेगा…
बड़ी तरक्की की है हमने शहर आकर के,
वहां हल चलाते थे, यहां रिक्शा चलाकर के

Web Title: Top-11 Indian Childhood Games, Hindi Article

Keywords: Childhood Games, Childhood Stories, Fun Games Hide and Seek Games Indian Kid Games Indoor Games, Kids Playing Outdoor Games, Pithu, Kancha, Gilli Danda, Chain, Hopscotch, Chhupam Chhupai , Hide-n-Seek, Vish Amrit, Langdi, Blindman’s Buff

Featured image credit / Facebook open graph: grabhouse.com