2016 में राइजिंग पुणे सुपरजाइंट एक नई-नवेली टीम के रुप में टूर्नामेंट का हिस्सा बनी और महेन्द्र सिंह धोनी की अगुवाई में मैदान पर उतरी. चूंकि यह सीजन की एक नई टीम थी, इसलिए सभी की नज़रें इसके प्रदर्शन पर लगी हुई थी. हालांकि टूर्नामेंट में यह कहीं पर भी अपना रंग जमाने में सफल नहीं हो सकी. धोनी की एक मैच के अंतिम ओवर में 6 बॉल पर 23 रन की जिताऊ पारी के अलावा शायद ही कुछ होगा, जो लोगों को याद होगा. सीजन की शुरुआत से ही इसके बड़े खिलाड़ी एक के बाद एक चोटिल होकर टूर्नामेंंट से बाहर होते गए. जैसे-तैसे यह टीम खुद को अंकतालिका में 6वें नंबर तक ही पहुंचा पाई. खैर इस सीजन 2017 में पुणे की टीम का दावा मजबूत करने के लिए टीम के मालिक संजीव गोयनका ने इसमें कई परिवर्तन किए हैं. सबसे बड़ा परिवर्तन उन्होंने धोनी को कप्तानी से हटाकर स्टीव स्मिथ को टीम की कमान सौंपी है. अब स्मिथ ‘राइजिंग पुणे सुपरजाइंट’ को कहां तक ले जाने में सफल होते हैं, देखना दिलचस्प रहेगा. फिलहाल टीम के अभी तक के सफ़र और उसकी चुनौतियों पर एक नज़र डालते हैं:

बरकरार नहीं रख सकी जीत का जश्न

2016 के सीजन में राइजिंग पुणे सुपरजाइंट की इंट्री धमाकेदार रही. इसने मौजूदा चैंपियन मुंबई इंडियंस को 9 विकेट से पहले मैच में ही मात दी थी, लेकिन वह आगे अपनी लय को बरकरार नहीं कर सके. अगले चार मैचों में उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा. 6वें मैच में अशोक डिंडा ने सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ टीम को जीत दिलाकर ऊर्जा फूंकने की कोशिश की, लेकिन अगले दो मैचों में गुजरात लायंस और मुंबई इंडियंस ने हराकर इसके हौसले पस्त कर दिए. जैसे-तैसे

टीम खुद को समेटते हुए आगे बढ़ी तो अगले मैच में दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ 7 विकेट से जीतने में कामयाब रही. हार जीत का यह सिलसिला चलता रहा और पूरे सीजन में टीम केवल 14 में से 5 मैच ही जीत सकी.

अब बारी है आईपीएल के सीजन 2017 की…

Dhoni with team in IPL 2016 (Pic: indianexpress.com)

टीम में हुए बड़े फेरबदल

‘राइजिंग पुणे सुपरजाइंट’ इस सीजन में किसी भी कीमत पर जीत के खिताब पर पहुंचना चाहेगी. इसकी एक झलक खिलाड़ियों के ऑक्शन में देखने को मिली. टीम मैनेजमेंट ने तगड़ा दांव खेलते हुए ‘बेन स्टोक्स’ को 14.5 करोड़ में खरीदकर टीम का हिस्सा बनाया है. वह इस सीजन के सबसे महंगे खिलाड़ी हैं. वहीं, मिचेल मार्श को चोट के कारण खोने के बाद उन्होंने वर्तमान में बेहतरीन टी20 गेंदबाजों में से एक इमरान ताहिर को अपनी टीम में जगह दी है. जैसा कि इतनी सारी तब्दीलियों के साथ आरपीएस टीम की पहले से ही चर्चा हो रही है. जाहिर है कि वह चाहेंगे कि उनके अच्छे प्रदर्शन की भी चर्चाएं हों.

रहाणे और ख्वाजा पर रहेगी नज़र

अजिंक्य रहाणे को टीम का मजबूत हिस्सा माना जा रहा है. हालांकि पिछले सीजन में वह कुछ खास नहीं कर पाए थे, लेकिन उनके पास खेल का बड़ा अनुभव है, जो टीम को मजबूत शुरुआत देने में मददगार रहेगा. वह उस्मान ख्वाजा के साथ ओपनिंग के लिए उतर सकते हैं. बताते चलें कि ख्वाजा को पीटरसन की जगह टीम में जगह दी गई है. ख्वाजा ने पिछले कुछ महीनों के दौरान अच्छी बल्लेबाजी की है, लेकिन अच्छे स्टार्ट को बड़े स्कोर में तब्दील करने में कई मौकों पर असमर्थ नजर आए हैं. ऐसे में उनसे टीम को उम्मीद है कि वह अपना गियर बदलकर टीम को ठोस शुरुआत देंगे.

स्मिथ का होगा लिटमस टेस्ट!

चूंकि अब स्मिथ के हाथों में टीम की कमान है, इसलिए टीम कैसे बेहतर खेले यह उनकी जिम्मेदारी है. हालांकि स्मिथ के पास कप्तानी का शानदार अनुभव है, इसलिए उन्हें कोई खास दिक्कत नहीं होगी कप्तानी करने में. इसके बावजूद स्मिथ को टीम के खिलाड़ियों को सही तरीके से इस्तेमाल करने की चुनौती होगी, साथ ही घरेलू स्टार्स को सही तरीके से जांचने के साथ खिलाने की चुनौती भी होगी. क्योंकि ये हमेशा देखा गया है कि घरेलू स्टार्स ही अक्सर गेम चेंजर साबित होते हैं. इस तरह से ये स्मिथ का लिटमस टेस्ट होगा.

Steve Smith in IPL 2016 (Pic: indianexpress.com)

मिडिल ऑर्डर की महत्वपूर्ण भूमिका

इस टीम के मिडिल ऑडर पर नज़र डालें तो हम पायेंगे कि वह बेहद मजबूत है. इसमें धोनी, स्टोक्स और डू प्लेसी जैसे दिग्गज हैं, जो अकेले दम पर मैच का रुख बदलने में सक्षम हैं. हालांकि डू प्लेसी शामिल होंगे या नहीं होंगे इसको लेकर अभी संशय है. डू प्लेसी इंग्लैंड के साथ खेली जा रही सीरीज में व्यस्त होने के कारण आईपीएल टूर्नामेंट के कई मैचों में संभवतः उपस्थित नहीं रहेंगे.

स्टोक्स की एंट्री से गेंदबाजी मजबूत

वैसे तो ज्यादातर समय इस टीम ने हमेशा से अपने घरेलू गेंदबाजों से अपना काम चलाया है, लेकिन निश्चित रुप से इस बार बेन स्टोक्स की एंट्री से टीम की गेंदबाजी को बल मिलेगा. स्टोक्स डेथ ओवरों में कसी हुई गेंदबाजी करते हुए टीम में संतुलन लाना चाहेंगे. टीम के पास अशोक डिंडा और रजत भाटिया जैसे युवा गेंदबाज भी है, जो लगातार अच्छा प्रदर्शन करते रहे हैं. इस बार टीम में लेफ्ट मीडियम पेसर जयदेव उदानकट को भी शामिल किया गया है.

उदानकट की तारीफ खुद वसीम अकरम तक कर चुके हैं. उन्होंने कहा था, ‘यह युवा गेंदबाज देखने लायक होगा’. उदानकट इसके पहले डीडी, आरसीबी और केकेआर की ओर से खेल चुके हैं.

स्पिन की बात करें तो नाथन लॉयन, ताहिर और एडम जांपा अपनी जिम्मेदारी निभाने के लिए तत्पर होंगे.

टीम की चुनौतियां

पिछले सीजन में टीम का प्रदर्शन बहुत खराब रहा था. इस लिहाज से टीम में आत्मविश्वास की कमी हो सकती है. साथ ही धोनी की जगह टीम की अगुवाई कर रहे स्मिथ पर भी दबाव होगा. चूंकि टीम में कई सारे दिग्गज खिलाड़ी हैं, इसलिए सभी को साधकर सामंजस्य बैठाना बड़ा काम होगा. गौर करें कि जिस खिलाड़ी पर टीम ने बड़ा दांव लगाया है वह भी बीच मई में आईपीएल छोड़कर चले जाएंगे. जी हां बेन स्टोक पूरा सीजन नहीं खेलेंगे, इसलिए उनका विकल्प भी टीम को तैयार करना होगा.

Review of Pune Rising Pune Supergiant, Ben Stokes (Pic: asianworldnews.co.uk)

ये खिलाड़ी हैं टीम का हिस्सा

स्टीवन स्मिथ(कप्तान), अजिंक्य रहाणे, मयंक अग्रवाल, अंकित शर्मा, बाबा अपारजिथ, रविचंद्रन अश्विन, अंकुश बेंस, रजत भाटिया, उस्मान ख्वाजा, मनोज तिवारी, एमएस धोनी (विकेटकीपर), बेन स्टोक्स, रजत भाटिया, एडम जांपा, इमरान ताहिर, अशोक दिंडा, जयदेव उनादकट, शार्दुल ठाकुर, जशकरन सिंह, दीपक चहर, राहुल चहर, डान क्रिसटियन, डुपलिसस, सौरभ कुमार, मिलंद टंडन,  ईश्वर पांडे, राहुल त्रिपाठी.

प्रायोजक और पार्टनर्स

इस टीम की फ्रेंचाइजी का मालिकाना हक आरपी-संजीव गोयनका ग्रुप के पास है. टीम का नाम 18 जनवरी 2016 को कोलकाता में गोयनका द्वारा घोषित किया गया था और रघु अय्यर को इसका सीईओ नियुक्त किया गया था. बाद में 26 मार्च 2017 को इसका नाम सुपरजाइंट से बदलकर राइजिंग पुणे सुपरजाइंट कर दिया गया. प्रायोजकों और पार्टनर्स की बात की जाए तो, इसके पास केंट आरओ सिस्टम, स्पाइकर, गल्फ ऑयल, मिथुन ऑयल, फिनोलेक्स पाइप्स, एलआईएफ स्मार्टफोन, डीबीएस बैंक और मैरियट इंटरनेशनल जैसे कई बड़े नाम हैं, जो 2016 सीजन में जुड़े.

इसके अलावा फ्रेंचाइजी ने ओला, किंगफिशर, डैकिन यूनिवर्सिटी, न्यू इंडिया एश्योरेंस, पेटू रिनेसैंस और फैन गेराज जैसे पार्टनर्स के साथ करार किया है.

देखा जाए तो इस सीजन में राइजिंग पुणे सुपरजाइंट अच्छे प्रदर्शन के मूड में दिख रही है. टीम के नाम में बदलाव के साथ कई अन्य फेरबदल इस बात के निशान हैं. अब देखना बड़ा दिलचस्प होगा कि स्मिथ किस तरह टीम को आगे लेकर चलते हैं और कहां तक पहुंचते हैं. इस सबके बीच इस टीम के प्रशंसक धोनी के हेलीकॉप्टर शाट्स का भी लुत्फ़ उठाना चाहेंगे. वह चाहेंगे कि धोनी चौकों- छक्कों की इतनी बारिश करें कि उनके मुंह से एक ही आवाज निकले..धोनी..धोनी..और धोनी… बेशक उनका बेमिसाल अनुभव टीम के काम भी आ सकता है, अगर ऑस्ट्रलियन कैप्टन स्मिथ इसका विनम्र इस्तेमाल करना चाहें तो… !!

Review of Pune Rising Pune Supergiant (Pic: antiscoopwhoop.com)

Web Title: Review of Rising Pune Supergiant, Hindi Article

Keywords: Indian Premier League, Kent RO Systems, Motorola, Spykar, OLA, Kingfishers, Deakin University, New India Assurance, Gulf Oil, Gemini Oil, Finolex Pipes, LYF Smartphones, DBS Bank, Marriott International, Rising Pune Supergiant, Pune, Maharashtra, India, RP-Sanjiv Goenka Group, Steve Smith, MS Dhoni, Imran Tahir, Ajinkya Rahane, Ben Stokes

Featured image credit / Facebook open graph: iplt20.com