इंस्पिरेशन

4 मिनट में पढ़ें

‘कलाम सैट’ बनाकर दुनिया को हिलाने वाले भारतीय युवक की कहानी

Published

4 मिनट में पढ़ें to read

Search Icon Search Icon Search Icon
Vimal Naugain

Vimal Naugain

Staff Writer

विज्ञान के क्षेत्र में भारत एक के बाद एक नए कीर्तिमान गढ़ता रहा है. फिर चाहे मंगलयान की बात हो या फिर अग्नि मिसाइलों की. दुनिया ने भारत के एक से बढ़कर एक नये नमूने को देखा. इसी कड़ी में ‘कलाम सैट’ का नाम भी आता है.

तमिलनाडु के रहने वाले रिफत ने जब अपनी इस खोज को दुनिया के सामने उतारा तो सभी की आंखें खुली की खुली रह गईं. कहते हैं कि इस अविष्कार की चमक ने पूरी दुनिया को अचंभे में डाल दिया था. असल में यह भारत की एक ऐसी खोज थी, जिसको नासा भी नहीं गढ़ पाया था. तो आईये इस अद्भुत खोज के सफर को जानने की कोशिश करते हैं:

महज 18 की उम्र में कर दिखाया…

रिफत तमिलनाडु से आते हैं, महज 18 साल की उम्र में वह अमेरिकी स्पेस ऑर्गनाइजेशन ‘नासा’ की एक प्रतियोगिता का हिस्सा बने. प्रतियोगिता का नाम ‘क्यूब्स इन स्पेस’ था. इस प्रतियोगिता को जीतने के लिए उन्हें एक नया आविष्कार करना था. यह कहने में जितना आसान लग रहा था, उतना था नहीं.

चूंकि, अभी वह एक स्कूली छात्र थे, इसलिए उनके पास किसी भी प्रकार के आविष्कार के लिए पैसे नहीं थे. हालांकि, हमेशा की तरह रिफत के सामने यह समस्या नहीं टिक सकी. वह अपने कुछ साथियों की मदद से पैसा इकठ्ठा करने में सफल रहे. प्रतियोगिता एक बड़े पैमाने पर होनी थी. एक से बढ़कर एक धुरंधर इसमें भाग लेने जा रहा था.

रिफत को इस सबसे कोई फर्क नहीं पड़ रहा था. असल में उसे पता था कि उसे क्या करना है. विपरीत परिस्थितियों के बावजूद रिफत ने खुद को अपनी खोज के नाम कर दिया. जल्द ही वह  64 ग्राम वजनी और हाथ में समा जाने वाला एक क्यूबिकल सैटेलाइट तैयार करने में कामयाब हो गया. वह अपने आविष्कार के साथ अब नासा की प्रतियोगिता का हिस्सा था. उसकी ही तरह कई सारे अन्य युवा भी अपनी-अपनी खोजों के साथ इस प्रतियोगिता का हिस्सा थे. मुकाबला दिलचस्प होने वाला था.

कुछ देर में ही चयनकर्ताओं ने डिज़ाइन देखने शुरु कर दिए. वह जब रिफत की सैटेलाइट के पास पहुंचे तो वह दंग रह गये. कोई भी समझ नहीं पा रहा था कि आखिर एक बच्चा कैसे इतना अनोखा आविष्कार कर सकता है. फिर वही हुआ, जिसका रिफत को इंतजार था. प्रतियोगिता के प्रांगण में मौजूद 86,000 डिज़ाइनों में से रिफत का मॉडल ही चुना गया था. प्रतियोगिता को जीतते ही रिफत रातों-रात स्टार बन चुके थे.

Worlds Smallest Satellite Made By Indian Boy (Pic: aljazeera)

‘कबाड़’ से बनाया था सैटेलाइट

रिफत के सैटेलाइट डिज़ाइन की खबर सुनकर पूरी दुनिया अचंभे में पड़ गई. किसी गेंद से भी छोटा यह सैटेलाइट बड़े-बड़े सैटेलाइट की छुट्टी कर सकता था. इस खोज के बाद सब यही जानना चाहते थे कि आखिर यह अनूठा आविष्कार कैसे संभव हो सका. बाद में रिफत ने जब इसका जवाब दिया तो यह और हैरान कर देने वाला था. उन्होंंने बताया कि यह पूरा सैटेलाइट कबाड़ से बनाया गया था. इसमें कोई भी महंगा विदेशी उपकरण नहीं लगाया गया था.

छोटे से आकार का यह सैटेलाइट ढेर सारी खूबियों से भरा हुआ है. इसमें आठ प्रकार के सेंसर भी लगाए गए हैं. यह सभी सेंसर स्पेस में जाकर वहां से जुड़ी जानकारी को एकत्र करने में सहायक माने जाते हैं. इस सैटेलाइट का आकार ही इसकी सबसे बड़ी ताकत माना जाता है. इसका अधिकतम वज़न 64 ग्राम है. छोटे और हल्के होने की वजह से इसे अन्तरिक्ष में भेजने में ज्यादा परेशानी नहीं होती.

सीधी भाषा में कहें तो यह एक ‘छोटा पैकेट बड़ा धमाका है’.

Worlds Smallest Satellite Made By Indian Boy (Pic: a-long-way)

कलाम से मिली थी रिफ़त को प्रेरणा

भारत में विज्ञान से जुड़ने वाला हर व्यक्ति अब्दुल कलाम से किसी न किसी रूप से प्रेरित जरूर रहता है. अगर बात करें भारत में रॉकेट और स्पेस साइंस की तो उसको नए आयाम तक पहुंचाने वाले व्यक्ति अब्दुल कलाम ही माने जाते हैं. रिफत भी अब्दुल कलाम से प्रेरित है. वह हमेशा से उनके जैसा ही एक वैज्ञानिक बनना चाहता था.

अपनी उपलब्धि को वह कलाम से मिली प्रेरणा का ही फल मानते हैं. इसी कारण जब उनके सामने अपनी सैटेलाइट को नाम देने की बात की गई तो, उनकी जुबान पर कलाम का ही नाम था. इस तरह कबाड़ से बनी उनकी सैटेलाइट को दुनिया ने ‘कलाम सैट‘ के नाम से जाना. रिफ़त कहते हैं कि उनकी यह सैटेलाइट उनके आदर्श डॉ. ए. पी. जे अब्दुल कलाम के लिए उनकी तरफ से एक श्रद्धांजलि है.

स्पेस में जाते ही बना दिया इतिहास

रिफत का सैटेलाइट इतना बढ़िया था कि नासा भी उसे स्पेस में भेजने को बेताब था. रिफत का भी यही सपना था कि वह अपने सैटेलाइट को आकाश में उड़ता देखें. नासा ने उस सैटेलाइट को भेजने के लिए काम करना शुरू कर दिया था. वह सैटेलाइट 3डी प्रिंटिंग की मदद से बनाया गया था.

अब बस इंतजार इस बात का था कि यह स्पेस में टिक पाएगा या नहीं. यह पहला ऐसा सैटेलाइट होने वाला था, जो भारत में बना था और नासा जिसे स्पेस में भेज रहा था. जल्दी ही यह इंतजार भी खत्म हुआ. आख़िरकार वह दिन आ ही गया जब नासा ने इसे लांच कर दिया. एक रॉकेट के सहारे यह आसमान की ओर बढ़ चला. सैटेलाइट ने पूरे 12 मिनट ग्रेविटी में गुज़ारे और उसके बाद वह नीचे आ गया.

इस सैटेलाइट से जितनी उम्मीदें की जा रही थी, यह उससे कहीं ज्यादा अच्छा साबित हुआ. सिर्फ़ रिफत नहीं बल्कि पूरे हिन्दुस्तान का नाम इस सैटेलाइट की सफलता ने आसमान तक पहुंचा दिया था.

Worlds Smallest Satellite Made By Indian Boy (Representative Pic: sooziq)

शौहरत का दौर…

इतना बड़ा काम करने के बाद अब बारी रिफत और टीम की प्रशंसा की थी. पूरे विश्व ने रिफत के इस आविष्कार की सराहना की थी. हर तरफ बस रिफत का ही नाम चल रहा था. वह इस तारीफ के हकदार भी थे. रिफत के इस काम से तमिलनाडु सरकार भी काफी प्रसन्न हुई थी. उन्होंने रिफत को दस लाख रूपए का इनाम देने की घोषणा भी की थी.

यह पहली बार नहीं था, जब रिफत को सम्मानित किया जा रहा था. इससे पहले भी उनकी कई अन्य खोजों के लिए सम्मानित किया जा चुका था. बस इस बार फर्क इतना था कि यह उपलब्धि उनके करियर की सबसे बड़ी उपलब्धि बन चुकी थी. इससे पहले उन्होंंने मौसम का हाल जानने के लिए हेलियम का एक गुब्बारा बनाया था. वह बात और है कि उन्हें उस वक्त उतनी प्रशंसा नहीं मिली थी. किन्तु, कहते हैं न कि सब्र का फल मीठा होता है.

कुछ इसी तर्ज़ पर आज पूरा विश्व रिफ़त की तारीफों के पुल बांधता नहीं थकता है.

Worlds Smallest Satellite Made By Indian Boy (Pic: edexlive)

रिफत जैसे हुनर की वजह से ही भारत का आज इतना बड़ा नाम है. देश में इतने प्रतिभाशाली लोग हैं, जिनके कारण ही विज्ञान के मामले में हम कभी किसी से पीछे नहीं रहते हैं. रिफत जैसे युवाओं के कारण ही भारत के लोग विश्व पटल पर अपना सीना चौड़ा करके कह पाते हैं कि हम हिन्दुस्तानी हैं.

Web Title: Worlds Smallest Satellite Made By Indian Boy, Hindi Article

Keywords: Rifath Sharook, Indian, Scientist, NASA, Space, Satellite, Kalamsat, Cube In Space, Competition, Rocket, APJ Abdul Kalam, President, Tech, School, Child, Winner, Tamilnadu, Science, Space Craft, World Smallest, India, Project, ISRO, Mars Orbit Mission, Worlds Smallest Satellite Made By Indian Boy, Hindi Article

Featured image credit / Facebook open graph: wallpapersin4k

इस लेख के बारे में आप क्या सोचते हैं?

Fascinated
Informed
Happy
Sad
Angry
Amused

प्रतिक्रिया