वायरल

4 मिनट में पढ़ें

जापानी टैटूओं का ‘बेमिसाल’ इतिहास

Published

4 मिनट में पढ़ें to read

Search Icon Search Icon Search Icon
Sudheer Singh

Sudheer Singh

Staff Writer

बदलते दौर में कपड़ों के पहनावे के साथ-साथ शरीर पर टैटू बनवाने का फैशन आम हो चला है. लोगों के हाथ, गर्दन, पीठ आदि पर आप टैटूओं की भिन्न-भिन्न आकृतियों को देख सकते हैं. यूं तो बाजार में टैटूओं के कई प्रकार मौजूद हैं, लेकिन इन सबमें जापानी टैटूओं के लिए लोगों में अलग किस्म का क्रेज देखने को मिलता है.

कहते हैं कि जापानी टैटू, टैटू कला में सबसे लोकप्रिय शैलियों में से एक हैं.

किन्तु, क्या आप जानते हैं कि जापानी टैटू में इस्तेमाल की जाने वाली डिजाइन्स का अर्थ का क्या होता है? हो सकता है इससे पहले आपके दिमाग में यह सवाल न आया हो, लेकिन अगर आप जापानी टैटूओं के शौकीन हैं, तो आपके लिए इनके डिजाइन्स में निहित अर्थ को जानना दिलचस्प होगा.

कहां से शुरु हुआ चलन?

जापान के टैटूओं में निहित अर्थ को जानने से पहले, उनके इतिहास को जानना ज़रुरी है. माना जाता है कि जापान में टैटूओं की शुरुआत 5,000 ईसा पूर्व के आसपास हुई थी. उस समय की मिट्टी की मूर्तियों में इसके निशान पाये जाते हैं. हालांकि, इसका कहीं लिखित रिकॉर्ड नहीं मिलता. 297 ई के आसपास में पहली बार इसके लिखित रिकॉर्ड की खोज की गई, जब एक चीनी वंशवासी इतिहास संकलित किया गया था.

इसमें बताया गया कि जापानी पुरुष और बूढ़े पुरुष, सभी अपने चेहरे पर टैटू बनवाते थे. साथ ही उन्हें अपने शरीर पर डिजाइन बनाने का भी शौक था. इसमें एक दूसरा पहलू भी निहित है, जिसके अनुसार इनका प्रयोग सज़ा के रूप में किया जाता था.

सत्तरहवीं शताब्दी में टैटूओं का प्रयोग जापान में अपराधियों और बहिष्कारों की पहचान करने के लिए किया जाने लगा था. अपराधियों के शरीर पर विभिन्न प्रतीकों को चिह्नित किया जाता है, ताकि अपराध करने वालों को पहचाना जा सके. कुल मिलाकर यह जापान में सजा देने के लिए प्रयोग किया जाने लगा था. बाद में इन टैटूओं के इतने डिजाइन आ गये कि यह सुंदर लगने लगे. देखते ही देखते लोग इन्हें अपने शरीर पर सजावट के लिए प्रयोग करने लगे.

History and meanings of Japanese tattoos (Pic: timeout.com)

जब ‘गैरकानूनी’ हो गए टैटू

अठारहवीं शताब्दी तक आते-आते इनका स्वरुप बिल्कुल बदल सा गया था. इन्हें लोकप्रिय कला के रुप में लिया जाने लगा. लकड़ी के प्रिन्टों, किताबों के कवर आदि जगह टैटूओं ने अपने पैर पसारने शुरु कर दिए थे. समय के साथ-साथ इनका स्वरुप और प्रयोग बदलता चला गया.

इसी सफर में द्वितीय विश्व युद्ध के बाद, जापान की छवि को सुधारने के लिहाज से टैटूओं को गैरकानूनी घोषित कर दिया था. यह एक ऐसा दौर था, जब टैटू कला से जुड़े हुए लोगों ने इसे चोरी छिपे जिंदा रखा. उन्हीं के प्रयासों का नजीता था कि द्वितीय विश्व युद्ध खत्म होने के बाद जापान में एक बार फिर से टैटू कला को बहाल कर दिया गया. तब से यह परंपरा बदस्तूर जारी है.

आज बहुत से लोग पूरे मन से सुंदर डिजाइनों के लिए जापानी शैली के टैटूओं को पसंद करते हैं. बाजार में आपको जापानी टैटूओं के विभिन्न स्वरुप देखने को मिल जायेंगे. इनका जिक्र हम आगे के पैरा में करेंगे.

जापानी ड्रैगन व फीनिक्स टैटू

पश्चिम में ड्रेगन ताकत, क्रूरता और धन का प्रतीक माना जाता है. वैसे तो ड्रेगन विनाशकारी शक्तियां हैं, लेकिन उन्हें संरक्षक भी माना जाता है. जापानी ड्रेगन को अलग तरह से देखते हैं. जापानी परंपरागत टैटू कला में ड्रेगन उदार शक्तियां हैं, जो मानवता के लिए अच्छा करने के लिए अपनी ताकत का उपयोग करती हैं. ड्रैगन टैटू के लिए ज्ञान एक और विशेषता है, जिसके कारण लोग इसे बनवाना पंसद करते हैं.

वहीं फीनिक्स टैटू की बात की जाये तो यह टैटू जापान की संस्कृतियों से जुड़ा माना जाता है. साथ ही फीनिक्स टैटूओं पुनर्जन्म और जीत के प्रतीक भी माने जाते हैं. इसके अलावा इन टैटूओं को नवीनीकरण के लिए भी प्रयोग किया जाता है.

टाइगर टैटू व फू-डॉग टैटू

जापानी टाइगर टैटू असली जानवर की ताकत और साहस को प्रदर्शित करते हैं. यह लंबे जीवन के लिए शुभ माने जाते हैं. बताया जाता है कि इनको बनवाने से बुरी आत्मायें आस-पास नहीं ठहरती. बीमारियों को दूर रखने में भी इन टैटुओंं को कारगर माना जाता है.

फू-डॉग टैटू की बात करें, तो यह टैटू एक शेर और एक कुत्ते दोनों जैसा दिखता है. विशेष रूप से इसके कान शेर जैसे बनाये जाते हैं. यह सुरक्षा, मजबूती और साहस के प्रतीक माने जाते हैं.

Tiger Tattoo Design (Pic: pinterest.com)

जापानी खोपड़ी व फूल टैटू

आम धारणा के अनुसार मानव खोपड़ी की छवि नकारात्मक मानी जाती है. कहा जाता है कि यह खतरे का प्रतीक होती है. किन्तु जापानी टैटू में इस्तेमाल की गई खोपड़ी सकारात्मक इमेज बताती है. उनके हिसाब से यह टैटू परिवर्तन का प्रतिनिधित्व करता है.

जापानी फूल टैटू पारंपरिक जापानी टैटू कला का एक बहुत ही महत्वपूर्ण उदाहरण माना जाता है. यह अत्यधिक मूल्यवान डिजाइन है. इसमें जापान की कई सारी पुरानी कलाओं की आकृतियां बनाई जाती है. यह टैटू सुख-शांति का संदेश निहित रखता है.

ओनी मुखौटा व वेव टैटू

जापानी टैटू में ओनी मुखौटा बेहद आम है. ओनी टैटू दो प्रकार के होते है. पहले प्रकार को बुराई के लिए जाना जाता है और दूसरा अच्छाई के लिए!

वेव टैटू जापानी टैटू का एक अलग रुप है. यह टैटू मुख्य रुप से आंदोलन और ताकत के संदेश को दर्शाते हैं. इसके अलावा यह टैटू इस धारणा को व्यक्त करते हैं कि जीवन को पानी की तरह बहते रहना चाहिए. यह टैटू बताता है कि पानी का प्रवाह भले ही तेज और मजबूत होता हो, लेकिन उसमें कोमलता और शांत हमेशा रहती है.

Water Waves Japanese Skull Mens Sleeve Tattoo (Pic: nextluxury.com)

ऐसे न जाने कितने और जापानी टैटू प्रचलन में हैं, जो अपने अंदर ढ़ेर सारे अर्थ छुपाये हुए बैठे हैं. अगर आप भी जानते हैं ऐसे किसी जापानी टैटू का नाम तो, नीचे दिए कमेंट बॉक्स में हमें जरुर बताईयेगा.

Web Article: History and meanings of Japanese tattoos

Keywords: Japanese tattoo style, Tattooing in Japan, Wood Block Prints, Japanese Tattoo Style Motifs, Dragons Tattoo, Animals Tattoo, Birds Tattoo, Fish Tattoo, Tigers, Snakes Tattoo, Tattoo Styles Guide, Arts, Japanese, Asian, Civilization, World Civilization, Culture

Featured image credit / Facebook open graph: tattooinjapan

इस लेख के बारे में आप क्या सोचते हैं?

Fascinated
Informed
Happy
Sad
Angry
Amused

प्रतिक्रिया